उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता रिपोर्ट ने बढ़ाई टेशन, खून में मिले ये खतरनाक बैक्टीरिया, डॉक्टर ने किया पीड़िता के स्वास्थ्य को लेकर सबसे बड़ा खुलासा

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता रिपोर्ट ने बढ़ाई टेशन, खून में मिले ये खतरनाक बैक्टीरिया, डॉक्टर ने किया पीड़िता के स्वास्थ्य को लेकर सबसे बड़ा खुलासा

Ruchi Sharma | Updated: 08 Aug 2019, 11:31:12 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

-Unnao Gang rape पीड़िता की हालत दिनप्रतिदिन गंभीर होती जा रही

-पीड़िता की कल्चर टेस्ट (Culture test) करवाया

लखनऊ. उन्नाव दुष्कर्म (Unnao Gang rape) पीड़िता की हालत दिनप्रतिदिन गंभीर होती जा रही है। दो दिन पहले उसे एयरलिफ्ट (Airlift) कर दिल्ली के एम्स (Aiims) लाया गया था। डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता की हालस में कोई सुधार नहीं हो रहा है। हालत लगातार खराब होती जा रही है। पीड़िता की कल्चर टेस्ट (Culture Test) करवाया गया जहां रिपोर्ट में कुछ सही नहीं निकला। रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता के खून में खतरनाक बैक्टीरिया होने की बात सामने आई है। जिस वजह से उसे दी जाने वाली प्रमुख सात एंटीबायोटिक दवाओं में से छह बेअसर साबित हो रही हैं। इसके चलते पीड़िता की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है। उसकी रिपोर्ट केजीएमयू (KGMU) अब एम्स भेजेगा।

यह भी पढ़ें- उन्नाव रेप केस में आया एक नया मोड़, ट्रक ड्राइवर ने बदला अपना बयान, जब CBI ने की पूछताछ तब किया असली कहानी का खुलासा

केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. संदीप तिवारी के मुताबिक आइसीयू में भर्ती मरीजों को दी जाने वाली प्रमुख एंटीबायोटिक के प्रभाव की टेस्टिंग की गई. लैब में ड्रग सेंसिटीविटी टेस्टिंग में सात एंटीबायोटिक दवाओं की जांच की गई। उसमें से पीड़िता पर छह एंटीबायोटिक बेअसर पाई गईं। विशेषज्ञों ने इसे मल्टी ड्रग रेजिस्टेंस करार दिया। पीड़िता में एंटिरोकोकस बैक्टीरिया की पुष्टि हुई है। इसकी रिपोर्ट एम्स भेज दी जाएगी।

यह भी पढ़ें- उन्नाव रेप केस : 6 जगह फ्रैक्चर, इंटरनल ब्लीडिंग, बहा 3 यूनिट खून, मां बाहर निकले वाले हर डॉक्टरों से कहती है ये बात... सून निकल आएंगे आंसू

विशेषज्ञों के मुताबिक यह बैक्टीरिया काफी रेयर है और मल में पाया जाता। यह ब्लड में कैसे पहुंचा इसका पता लगाया जाना चाहिए। इस बैक्टीरिया की वजह से दवाएं बेअसर हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें- उन्नाव रेप मामले को लेकर इस भाजपा विधायक ने खोला सबसे बड़ा राज, कहा- कुलदीप भाई तो... BJP को बड़ा झटका

बता दें कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पीड़िता की हालत को लेकर बुलेटिन जारी किया. जिसमें डॉक्टरों की रिर्पोट के आधार पर बताया गया कि पीड़िता की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई है। इसीलिए उन्हें वेंटिलेटर पर ही रखा गया है। उनका ब्लड प्रेशर कंट्रोल किए जाने के प्रयास जारी हैं। एम्स की ओर से बताया गया कि डॉक्टरों की एक विशेष टीम पीड़िता की देखरेख कर रही है। साथ ही मंगलवार को पीड़िता के वकील को भी एम्स में शिफ्ट कर दिया गया। वह अभी तक कोमा में हैं. हॉक्टरों के मुताबिक अभी भी उनकी हालत गंभीर है।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned