UP: कांग्रेस को मजबूत करने के लिए 7 कमेटियों का गठन, जितिन प्रसाद और राजबब्बर को नहीं मिली जगह

साल 2022 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपनी तैयारियां और तेज कर दी हैं।

लखनऊ. साल 2022 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपनी तैयारियां और तेज कर दी हैं। उत्तर प्रदेश की राजनीति में हाशिये पर पड़ी में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए आलाकमान ने सात कमेटियों का गठन किया है। इन कमेटियों में युवा और वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं को तरजीह दी गई है। हालांकि इस कमेटी में यूपी कांग्रेस का ब्राह्मण चेहरा कहे जाने वाले जितिन प्रसाद, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह को कहीं जगह नहीं मिली है। जिसके चलते पार्टी में अंदरखाने नई बहस छिड़ती नजर आ रही है। आपको बता दें कि सोनिया गांधी को अध्यक्ष पद को लेकर पत्र लिखने वाले 23 नेताओं में पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद और राज बब्बर भी शामिल थे। इसके अलावा पूर्व सांसद आरपीएन सिंह भी राज्य के प्रमुख नेताओं में से हैं, जो इन समितियों में शामिल नहीं हो सके।

बनाई गईं ये समितियां

कांग्रेस पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने यूपी के लिए घोषणापत्र समिति, संपर्क समिति (आउटरीच कमेटी), सदस्यता समिति, कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति, प्रशिक्षण एवं कैडर विकास समिति, पंचायती राज चुनाव समिति और मीडिया एवं संचार परामर्श समिति के गठन को अपनी स्वीकृति दी है।

सभी को साधने में जुटी पार्टी

कांग्रेस ने इन समितियों के गठन के माध्यम से पुराने और हाशिए पर पड़े नेताओं को संतुष्ट करने की बड़ी कोशिश की है। साथ ही युवाओं को भी तरजीह देकर बेहतर संतुलन बनाने की ओर भी काम हुआ है। जैसे पार्टी के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद और पीएल पुनिया को घोषणापत्र में जगह दी गई है, तो प्रमोद तिवारी को संपर्क समिति, अनुग्रह नारायण सिंह को सदस्यता समिति, नूर बानो को कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति, राजेश मिश्रा को पंचायती राज समिति और राशिद अलवी को मीडिया एवं संचार परामर्श समिति में शामिल किया गया है। कुल मिलाकर कांग्रेस मे वरिष्ठ और युवा सभी नेताओं को जिम्मेदारी देकर एक सात खड़ा करने की कोशिश की है।

जो चुने गए, वह करेंगे अच्छा काम

इस पर राज बब्बर ने कहा कि जिन लोगों को पार्टी ने सही कामों के लिए चुना है, मुझे यकीन है कि वे सभी अच्छा काम करेंगे। जहां तक मेरा सवाल है तो मैंने यूपी छोड़ दिया है। वहीं समितियों में जगह न मिलने पर जितिन प्रसाद की तरफ से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Congress
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned