यूपी बोर्ड 2018 की परीक्षा में हुआ बड़ा फर्जीवाड़ा, रुकेगा रिजल्ट

यूपी बोर्ड के तीन हज़ार छात्र छात्राओं को बड़ा झटका लग सकता हैं ।

लखनऊ. यूपी बोर्ड के तीन हज़ार छात्र छात्राओं को बड़ा झटका लग सकता हैं । यूपी बोर्ड 2018 परीक्षा का उनका रिजल्ट रुक सकता है । यूपी बोर्ड परीक्षाओं में बगैर मान्यता प्राप्त कॉलेज के करीब तीन हज़ार छात्रों का परिणाम रुक सकता है । जिला विद्यालय निरीक्षक ने बिना मान्यता प्राप्त स्कूलों के छात्रों की लिस्ट बना कर बोर्ड को भेज दी है । लिस्ट में इन छात्रों को फर्जी बताया गया है । अब इन छात्रों का रिजल्ट रोका जाएगा या नहीं यह बोर्ड के फैसले पर निर्भर करेगा ।

पहले से चिह्नित किये गए थे छात्र

यूपी बोर्ड 2018 की परीक्षाओं के दौरान ही इन छात्रों को परीक्षा केंद्रों पर निरिक्षण के वक्त डीआईओएस द्वारा चिह्नित किया गया जा चुका है । चेकिंग के दौरान यह पाया गया कि इन छात्रों के दस्तावेजों में जन्मतिथि अलग अलग मिली थी । वहीँ स्पष्ट था की अधिक उम्र के लोग कम उम्र दर्ज करवाने के लिए परीक्षा में शामिल हो रहे हैं ।

सूची तैयार करने की दिए आदेश

चेकिंग के दौरान पाए गए छात्रों की सूची बनाने के आदेश डीआइओएस ने दिए । डीआइओएस डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने बताया की फर्जीवाड़ा करते हुए करीब तीन हज़ार परीक्षार्थी पाए गए हैं । इनकी जन्मतिथि में अंतर है। इसलिए इसकी पूरी रिपोर्ट बोर्ड को भेजी जाएगी।

फर्जी स्कूलों में होता है ऐसा फर्जीवाड़ा

राजधानी लखनऊ में 2000 से अधिक फ़र्ज़ी स्कूलों का संचालन हो रहे हैं । ये सभी अपने यहाँ छात्रों का दाखिला करते हैं ऐसे में वह छात्रों का पंजीकरण किसी दूसरे मान्यता प्राप्त स्कूल से करवाते हैं । दोनों स्कूलों की साठगांठ से यह पूरा खेल होता है । वहीँ कुछ ऐसे भी परीक्षार्थी होते हैं जो खेल करने वाले मान्यता प्राप्त स्कूलों से सीधे संपर्क कर अपना दाखिला करवाते हैं।

इन स्कूलों पर भी कसेगा शिकंजा

डीआइओएस ने बताया कि परिक्षार्थियों के साथ उन स्कूलों की भी सूची बनाई जाएगी जहां ये परिक्षार्थी पढते थें। अभी तक ऐसे 100 स्कूलों के नाम सामने आये हैं। इन सभी को नोटिस भेजा गया है।

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned