UP Budget 2020: इस क्षेत्र में आवंटित बजट लॉन्ग टर्म के लिए देगा फायदा, रुपयों को होगी बरसात

बजट में योगी सरकार ने उन योजनाओं पर फोकस किया है, जो लॉन्ग टर्म के लिए फायदा देती रहेंगी।

By: Abhishek Gupta

Published: 18 Feb 2020, 04:56 PM IST

लखनऊ. यूपी बजट 2020 (UP Budget 2020) में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवेलेपमेंट पर भी खूब जोर दिया गया है जिसकी पहले भी उम्मीद की जा रही थी। बजट में योगी सरकार ने उन योजनाओं पर फोकस किया है, जो लॉन्ग टर्म के लिए फायदा देती रहेंगी। उदाहरण स्वरूप एक्सप्रेस-वे, मेट्रो के निर्माण इनमें सबसे ऊपर है। इनसे यातायात तो सुगम होगा ही, रोजगार व अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा मिलेगा। एक्सप्रेसवे योगी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक है। इसके लिए पूर्व में भी कई ऐलान हुए है, हांलाकि प्रदेश में बनने वाले पांच एक्सप्रेस वे में से केवल एक 'गंगा एक्स्प्रेसवे' के लिए बजट आवंटित किया गया है। इनके अतिरिक्त प्रदेश में यातायात सुविधा को बढ़ावा देने के लिए अयोध्या एयरपोर्ट, जेवर एयरपोर्ट, रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के लिए भी खूब व्यवस्था की गई है। ग्रामीण इलाकों में सड़कों के निर्माण के लिए हजारों करोडों रुपए का प्रावधान है। इसी के साथ ही पुलों के निर्माण पर भी यूपी बजट 2020-21 में ध्यान दिया गया है।

ये भी पढ़ें- सीएम योगी का बड़ा ऐलान, बुंदेलखंड को देंगे 70 हजार करोड़ रुपए का तोहफा, अब तक नहीं किया था किसी सरकार ने

मेट्र्रो के लिए 850 करोड़ रुपए-
नोएडा व लखनऊ के बाद अब अन्य शहरों में मेट्रो के लिए यूपी वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने बजट पास किया है। कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए 358 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। वहीं आगरा मेट्रो रेल परियोजना के लिए 286 करोड़ रुपए की व्यवस्था है। साथ ही गोरखपुर तथा अन्य शहरों में मेट्रो रेल के लिए प्रस्ताव तैयार किए जा रहे हैं, जिसके लिए 200 करोड़ रुपए की बजट रखा गया है।

एयरपोर्ट के लिए 2500 करोड़-
अयोध्या में पर्यटन की दृष्टि से कई योजनाओं के ऐलान पूर्व में ही हो चुके हैं। देश व विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं के आवागमन के लिए अयोध्या में एयरपोर्ट बनकर तैयार होगा। सुरेश खन्ना ने कहा कि अयोध्या एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ की व्यवस्था की गई है। साथ ही रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम एयरपोर्ट्स के लिए 92.50 करोड़ रुपए की व्यवस्था है। तो वहीं गौतमबुद्धनगर के जेवर में 'नोएडा इंटरनेश्नल ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट' के लिए 2000 करोड़ रुपये का एलान किया गया है।

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी के काफिले के आगे कूदने वाल सपाई पर अखिलेश यादव ने जारी किया बड़ा बयान

गंगा एक्स्प्रेस-वे के लिए 2000 करोड़ रुपए-
गंगा एक्सप्रेस वे के नाम से यूपी में देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे तैयार होगा। मेरठ से प्रयागराज तक जाने वाले इस एक्सप्रेस वे के निर्माण के लिए 2000 करोड़ का बजट प्रस्तावित है। पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से बलिया को जोड़ने के लिए बलिया लिंक एक्सप्रेसवे व गोरखपुर को जोड़ने के लिए 91 किमी लंबे गोरखपुर लिंक एक्प्रेसवे के निर्माण का निर्णय लिया गया है।

पुलों व मार्गों के निर्माण के लिए 10000 हजार करोड़ से ज्यादा का बजट-

बेहतर रोड कनेक्टिविटी के लिए वित्त मंत्री के पिटारे से करोड़ों रुपए निकले हैं। ग्रामीण मार्गों के निर्माण के लिए 2,305 करोड़, राज्य सड़क निधि के लिए 1,500 करोड़, मार्गों की मरम्मत करने के लिए 3,524 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। वहीं विश्व बैंक की सहायता से प्रस्तावित उत्तर प्रदेश कोर रोड नेटवर्क परियोजना के लिए 830 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। उत्तर प्रदेश मुख्य ज़िला विकास परियोजना के अंतर्गत मार्ग निर्माण के लिए 755 करोड़ रुपए पास किए गए हैं। पूर्वांचल निधि के लिए 300 करोड़, बुंदेलखंड निधि के लिए 210 करोड़ रुपए व केंद्रीय मार्ग योजना के लिए 2,080 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। पुलों के निर्माण के लिए 2,529 करोड़ रुपए का बजट है।

रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के लिए 900 करोड़-

यूपी के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि दिल्ली से मेरठ के बीच रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के लिए 900 करोड़ के बजट का प्रस्ताव है। पिड ट्रांजिट सिस्टम का कार्य प्रगति में है।

budget 2020
Show More
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned