नीट टॉपर आकांक्षा सिंह को सीएम योगी ने किया सम्मानित, पढ़ाई का खर्च उठाएगी योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में महिलाओं और बेटियों की सुरक्षा और सम्मान में शुरू किए गए मिशन शक्ति अभियान के तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्ट में टॉप करने वाली आकांक्षा सिंह को सम्मानित किया है।

By: Karishma Lalwani

Published: 28 Oct 2020, 12:04 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में महिलाओं और बेटियों की सुरक्षा और सम्मान में शुरू किए गए मिशन शक्ति अभियान के तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्ट में टॉप करने वाली आकांक्षा सिंह को सम्मानित किया है। उन्होंने आकांक्षा को अपने सरकारी आवास पर सम्मानित किया। प्रदेश सरकार ने आकांक्षा की पढ़ाई का पूरा खर्च उठाने का निर्णय लिया है। इसके साथ ही गंव की एक सड़क आकांक्षा के नाम बनवाने का भी निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर इस उपलब्धि के लिए आकांक्षा सिंह और उनके पूरे परिवार को बधाई देते हुए कहा कि ऊंचे इरादे, परिश्रम और निष्ठा के साथ लक्ष्य को पाया जा सकता है, इसे आकांक्षा ने सिद्ध कर दिया है। आकांक्षा बालिकाओं के लिए रोल मॉडल हैं और उन परिवारों के लिए भी जो बालिकाओं को पढ़ाने में कोताही बरतते हैं। बता दें कि कम उम्र के नाते परीक्षा में पूरा अंक हासिल करने के बाद उनको दूसरा रैंक मिला है।

संयुक्त टॉपर घोषित करने के लिए नीट को पत्र लिखेगी सरकार

मुख्यमंत्री ने कहा कि अति पिछड़े जिले से होने के बावजूद आकांक्षा ने सफलता का जो कीर्तिमान रचा है वह उनकी मेहनत, लगन, जज्बे और जुनून का सबूत है। साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे बच्चों खासकर बच्चियों के लिए प्रेरक भी। नवरात्र में सरकार ने बहू-बेटियों के सम्मान, शक्तिकरण और स्वावलंबन के लिए जो कदम उठाया है उसके लिए भी आकांक्षा खुद में रोल मॉडल हैं। इस सफलता को लिए पूरे परिवार को मेरी शुभकामनाएं। मुझे पूरा भरोसा है कि आकांक्षा सफलता के इस सिलसिले काे जारी रखेंगी। सरकार आकांक्षा को संयुक्त टॉपर घोषित करने के लिए नीट को पत्र भी लिखेगी

भाई को टैबलेट, माता-पिता को शॉल देकर किया सम्मानित

मुख्यमंत्री ने आकांक्षा के माता पिता को शॉल देकर सम्मानित किया। जबकि भाई को टैबलेट दिया। आकांक्षा के पिता राजेंद्र राव ने सीएम को बताया कि वह एअरफोर्स से सेवानिवृत्त हैं, पर हाल ही उनको प्रदेश सरकार में शिक्षक की नौकरी भी मिली है। उनकी पत्नी (रूचि सिंह) भी एक शिक्षक हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने मुस्कुराते हुए कहा कि बिटिया का सलेक्शन, पत्नी भी शिक्षक, आपकी तो लॉटरी ही लग गई।

कठिनाइयों को मौका समझ कर करें मुकाबला

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के दौरान कुशीनगर निवासी आकांक्षा सिंह ने कहा कि यह पल जीवन का सपना पूरा होने जैसा है। उन्होंने कहा कि हमेशा अपने सपनों और इरादों को ऊंचा रखिए। इनको हासिल करने में आ रही कठिनाइयों को मौका समझिए। आकांक्षा ने कहा कि यूपी में शुरू किए गए मिशन शक्ति से बहुत प्रेरणा मिली है। उन्होंने नारी सशक्तीकरण को लेकर शुरू किए गए इस अभियान के लिए सीएम योगी को धन्यवाद दिया।

सरकार उठाएगी पढ़ाई का खर्च

आकांक्षा की उपलब्धि पर उसे सम्मानित करने के साथ ही मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव आरके तिवारी को निर्देश दिया कि छात्रा की यूजी कोर्स की पूरी फीस और हॉस्टल के खर्चे का विवरण परिवार से लकर उसका एक मुश्त भुगतान किया जाए।

न्यूरो सर्जरी में शोध करने की इच्छा

आकांक्षा ने एम्स दिल्ली से एमबीबीएस किया है। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की शिक्षा उन्होंने क्रमश: नवजीवन मिशन स्कूल कसया और दिल्ली के प्रगति पब्लिक स्कूल से हासिल की है। इन दोनों परीक्षाओं में उनके नंबर क्रमश: 97.6 और 96.4 फीसद रहे। उनकी न्यूरो सर्जरी में शोध करने की इच्छा है।

ये भी पढ़ें: यूपी के किसानों के लिए अच्छी खबर, फसल बेचने के लिए नहीं भटकना होगा इधर-उधर, अनाज भंडारण के लिए बनेंगे पांच हजार गोदाम

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned