यूपी के थानों पर अब हर हालत में होगी आपकी सुनवाई, डीजीपी के इस एक्शन से सभी को मिलेगी बड़ी राहत

उत्तर प्रदेश के थानों पर दी गई एप्लीकेशन गायब हो जाने और उस पर एक्शन न किए जाने की हर दिन आ रही शिकायतों को देखते हुए डीजीपी एचसी अवस्थी ने बड़ा एक्शन लिया है।

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के थानों पर दी गई एप्लीकेशन गायब हो जाने और उस पर एक्शन न किए जाने की हर दिन आ रही शिकायतों को देखते हुए डीजीपी एचसी अवस्थी ने बड़ा एक्शन लिया है। डीजीपी ने नई व्यवस्था लागू करने का निर्देश देते हुए कहा कि सभी थानों में महिला हेल्प डेस्क और आने वाले फरियादियों के लिए आगंतुक कक्ष की स्थापना की जाए। साथ ही शिकायतकर्ता के विवरण को कम्प्यूटर में फीड करके उन्हें प्रार्थना पत्र की रिसीविंग यानी प्राप्ति रसीद दी जाए।

 

डीजीपी ने दिये निर्देश

डीजीपी ने सभी जोनल एडीजी, दोनों पुलिस कमिश्नरों, रेंज के आईजी-डीआईजी और जिलों के पुलिस कप्तानों को भेजे दिशा-निर्देश में साफ कहा है कि आगंतुकों, शिकायतकर्ताओं और पीड़ित महिलाओं के लिए सभी थानों पर एक आधुनिक केन्द्रीयकृत महिला हेल्प डेस्क और रिसेप्शन की स्थापना की जाए। रिसेप्शन पर ही उससे संबंधित सभी जानकारियां प्राप्त कर उनका निस्तारण हो। उन्होंने महिला हेल्प डेस्क और रिसेप्शन पर नियुक्त कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने के लिए कहा है। साथ ही यह भी कहा है कि महिला हेल्प डेस्क पर ऐसी दो महिला सिपाहियों की तैनाती की जाए जो व्यवहार कुशल एवं मृदुभाषी हों।

 

प्रशिक्षण दिलाने के निर्देश

डीजीपी ने मेट्रोपोलिटन सेंटर और बड़े शहरों में तैनात महिला रिसेप्शन कर्मी एवं टूरिज्म पुलिसकर्मियों को अंग्रेजी भाषा का भी प्रशिक्षण दिलाने को कहा है। यह प्रशिक्षण पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय मेरठ में स्थापित लैंग्वेज लैब से कराया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि रिसेप्शन पूरी तरह से कम्प्यूटराइज्ड हो और वह प्रशिक्षित महिला सिपाहियों द्वारा संचालित किया जाए। डीजीपी ने कहा है कि थाने पर आने वाले हर आगंतुक, शिकायतकर्ता और पीड़ित महिला को सबसे पहले रिसेप्शन पर नियुक्त कर्मचारियों द्वारा अटेन्ड किया जाएगा। इसके बाद शिकायतकर्ता की डीटेल को कम्प्यूटर में फीड करते हुए उन्हें प्रार्थना पत्र की प्राप्ति रसीद दी जाएगी। रिसेप्शन की तरफ से थाना प्रभारी और बीट प्रभारी को शिकायतकर्ता के बारे में अवगत कराया जाएगा। साथ ही शिकायत का त्वरित निस्तारण किया जाएगा।

 

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned