निराश्रितों को शीतलहर से बचाने की तैयारी में योगी सरकार, ऑनलाइन होंगे सभी रैनबसेरे

- गरीबों व निराश्रितों को ठंड से बचाने की तैयारी में जुटी योगी सरकार

- ऑनलाइन होगा रैनबसेरों का विवरण

- निराश्रितों और गरीबों को बांटे जाएंगे कंबल

- इस पूरे कार्य के लिए 19.25 करोड़ की धनराशि जारी

By: Karishma Lalwani

Updated: 04 Nov 2020, 10:16 AM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गरीबों व निराश्रितों को ठंड से बचाने के लिए कंबल बांटने और सार्वजनिक स्थानों पर अलाव जलाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही उन्होंने कहा है कि इस बार राज्यों में रैनबसेरों का विवरण ऑनलाइन किया जाएगा। सर्दी के दौरान गरीबों और निराश्रितों को राहत पहुंचाने का कार्य पूरी तत्परता से करने की हिदायत देते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए धनराशि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने संबंधित जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं। इस पूरे कार्य के लिए 19.25 करोड़ की धनराशि जारी की गई है।

पांच-पांच लाख की धनराशि आवंटित

योगी सरकार द्वारा जिलाधिकारियों को दिए गए निर्देश के अनुसार, कबंल वितरण के लिए सभी जनपदों को प्रति तहसील 5-5 लाख रुपये व अलाव के लिए हर तहसील 50 हजार रुपये की धनराशि जारी की गई है। इसके अलावा अगर अतिरिक्त धनराशि की आवश्यकता पड़ेगी, तो शासन द्वारा समय से धनराशि आवंटित कर दी जाएगी।

रैनबसेरों की होगी जियो टैगिंग

सर्दी से बचने के लिए लोग नजदीकी रैनबसेरे को आसानी से खोज सके, इसके लिए इस साल पहली बार शीतलहर में स्थापित की जाने वाले रैनबसेरों का विवरण ऑनलाइन दर्ज कराया जाएगा। रैनबसेरों की जियो टैगिंग के साथ-साथ इनको गूगल मैप पर भी दर्ज किया जाएगा।

ये भी पढ़ें: प्रदूषण को देखते हुए इस बार पटाखों पर लग सकता है प्रतिबंध, एनजीटी ने यूपी समेत चार राज्यों को भेजा नोटिस

ये भी पढ़ें: सिंगल विंडों से निवेशकों की राह सुगम, यूपी में खुलेंगे रोजगार के नए आयाम

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned