अब यूपी सरकार नहीं सिलवाएगी बच्चों के यूनिफॉर्म, 1.60 करोड़ छात्रों के खाते में भेजे जाएंगे 17 करोड़

UP Government will Transfer 17 crore to 1.60 crore Students Accounts-उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (Uttar Pradesh Basic Education Council) की ओर से संचालित प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए राज्य सरकार (UP Government) अब यूनिफॉर्म नहीं सिलवाएगी। अभिभावकों को खुद ही अपने बच्चे के यूनिफॉर्म, जूते-मोजे और बैग खरीदने होंगे।

By: Karishma Lalwani

Published: 18 Sep 2021, 04:32 PM IST

लखनऊ. UP Government will Transfer 17 crore to 1.60 crore Students Accounts. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (Uttar Pradesh Basic Education Council) की ओर से संचालित प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए राज्य सरकार (UP Government) अब यूनिफॉर्म नहीं सिलवाएगी। अभिभावकों को खुद ही अपने बच्चे के यूनिफॉर्म, जूते-मोजे और बैग खरीदने होंगे। सरकार करीब पौने 17 करोड़ रुपये ऑनलाइन अभिभावकों के अकाउंट में ट्रांसफर करेगी। शासन स्तर पर इसकी योजना पूरी तरह से बना ली गई है। विभाग ने एक लाख 59 हजार परिषदीय स्कूलों में चालू शैक्षिक सत्र में 1.60 करोड़ बच्चों और उनके पैरेंट्स के बैंक अकाउंट की जानकारी मांगी है। इस संबंध में बेसिक शिक्षा निदेशक डॉ. सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह ने नई व्यवस्था के संबंध में प्रदेश भर के सभी बीएसए को लिखित निर्देश जारी कर दिए हैं। डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से पैसा खाते में भेजा जाएगा।

गुणवत्ता पर उठते रहे हैं सवाल

कोरोना महामारी के चलते शैक्षिक सत्र इस बार देर से खुले हैं। एक सितंबर से प्राइमरी स्कूल खुले लेकिन बच्चों को अभी तक ड्रेस नहीं मिली है। वहीं पहले कई बार यूनिफॉर्म की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठ चुके हैं। बेसिक शिक्षा विभाग का कहना है कि अभी तक इन सभी चीजों की केंद्रीकृत खरीद होती थी। इसके बाद मंडल, जनपद और फिर ब्लॉक वार इनका वितरण होता था। बच्चों तक यूनिफॉर्म, जूते-मोजे पहुंचने में देरी होती थी। कई बार मिलने वाली सामग्री की क्वालिटी भी खराब मिलती थी। इस देरी को खत्म करने के लिए विभाग ने सीधे बच्चों के खातों में पैसा भेजने का फैसला लिया है, ताकि वह जल्द यूनिफॉर्म, स्वेटर, जूते-मोजे खरीद सकें।

हर खाते में ट्रांसफर होंगे 1056 रुपये

यूपी सरकार की नई व्यवस्था के तहत हर एक बच्चे को 1056 रुपये मिलेंगे। इसमें 600 रुपए यूनिफॉर्म, 200 रुपए स्वेटर, 135 रुपए जूते, 21 रुपए मोजे और 100 रुपए स्कूल बैग के लिए शामिल हैं। डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से यह पैसा बच्चों या उनके परिजनों के खातों में भेजा जाएगा। स्कूल में जो बच्चे पंजीकृत हैं, उनका डेटा बेसिक शिक्षा विभाग की प्रेरणा एप पर अपलोड करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

ये भी पढ़ें: दिवाली से पहले पूरा हो सकता है अपना घर का सपना, विशेष छूट के साथ आवंटित होंगे फ्लैट

COVID-19
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned