ग्रीन एनर्जी कॉरिडोर में बदलेंगे यूपी के राजमार्ग

  • हर औद्योगिक विकास प्राधिकरण में पीएनजी लाइन बिछाने का आदेश

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में औद्योगिक विकास (Industrial Developement) और पर्यावरण संरक्षण दोनों साथ-साथ होंगे। उद्योगों को सुरक्षित ईंधन उपलब्ध कराए जाएंगे। सूबे के उद्योग पाइप्ड नेचुरल गैस (Piped Natural Gas) से चलेंगे। औद्योगिक इकाइयों को ग्रीन एनर्जी (Green Energy) उपलब्ध कराने के लिये प्राधिकरणों में पीएनजी का नेटवर्क (PNG Network) बनाया जाएगा। नेचुरन गैस के इस्तेमाल से न सिर्फ इकाइयों को सुरक्षित ईंधन की आपूर्ति होगी वहीं पर्यावरण की सुरक्षा भी सुनिश्चित होगी। पीएनजी सुरक्षित होने के साथ-साथ सस्ती भी है। इससे परिवहन और भंडारण पर होने वाला खर्च भी बचता है। इसके अलावा प्रदेश के प्रमुख हाइवे को ग्रीन एनर्जी काॅरिडोर (Green Energy Corridor) में बदलकर प्रदूषण रहित ईंधन को बढ़ावा दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें- देश का हाजमा दुरुस्त करेगा सोनभद्र का चूरन, जानें क्या खासियत

उत्तर प्रदेश में औद्योगिक विकास प्राधिकरणों में नेचुरल गैस नेटवर्क (Netural Gas Network) के लिये पाइप लाइन बिछाई जाएगी। सूबे के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने बताया है कि इसके लिये प्राधिकरणों को अधिकृत गैस कंपनियों को अनुमति व सुविधा प्रदान करने के लिये आदेश दिये गए हैं। अपर मुख्य सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आलोक कुमार ने बताया है कि पाइप्ड नैचुरल गैस (पीएनजी) नेटवर्क के विकास के लिए नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यीडा), उप्र राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा), गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा), सथहरिया औद्योगिक विकास प्राधिकरण (सीडा) तथा लखनऊ औद्योगिक विकास प्राधिकरण (लीडा) को गैस कंपनियों को सुविधा प्रदान करने का निर्देश दिया गया है।

इसे भी पढ़ें- Delhi to Varanasi Bullet Train: दिल्ली-वाराणसी बुलेट ट्रेन का सर्वे शुरू, रास्ते में 12 नहीं अब 14 स्टेशन होंगे, जानिये पूरी लिस्ट

आलाेक कुमार के मुताबिक प्रदेश के प्रमुख राजमार्गों को ग्रीन एनर्जी काॅरिडोर में बदला जाएगा। यूपीसीडा को निर्देश दिये गए हैं कि प्राधिकरण अपने क्षेत्र में सीएनजी (कम्प्रेस्ड नेचुरल गैस) की आपूर्ति के लिये सिटी गैस डस्ट्रीब्यूशन लाइसेंसी को जरूरी सुवधिाएं स्थापति करने में सहयोग करे। बताते चलें कि नगर विकास विभाग ने यूपी के 15प्रमुख नगरों में 1,525 सीएनजी (CNG) बसें संचालित करने का फैसला लिया है। इसके अलावा प्रदेश में सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन के लिये 37 गैस कंपनियों को अधिकृत किया गया है। ग्रीन एनर्जी काॅरिडोर के लिये आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे (Agra-Lucknow Expressway) पर बिल्हौर में 4,875 स्क्वायर मीटर भूमि भचिन्हित की गई है।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned