200 लोगों की जान ले चुके आंधी-तूफान से मौसम विभाग भी हुआ हैरान

Laxmi Sharma

Publish: May, 18 2018 02:31:24 PM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
200 लोगों की जान ले चुके आंधी-तूफान से मौसम विभाग भी हुआ हैरान

आंधी-तूफान से हुई मौतों का यह आंकड़ा मौसम वैज्ञानिकों को सबसे अधिक हैरान कर रहा है।

लखनऊ. मई और जून के महीने में आंधी-तूफान आने की घटनाएं हर साल होती हैं। इस बार भी इनका आना कोई नई बात नहीं है लेकिन इन आंधी-तूफानों ने जितनी अधिक संख्या में लोगों की जान पिछले बीस दिनों में ले ली है, उसका कारण किसी को समझ नहीं आ रहा। बीस दिनों के भीतर तीन बार आये भयावह आंधी-तूफान से 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। आंधी-तूफान से हुई मौतों का यह आंकड़ा मौसम वैज्ञानिकों को सबसे अधिक हैरान कर रहा है। हैरानी इस बात को लेकर है कि इस बार के आंधी तूफान में तीव्रता कुछ अधिक थी लेकिन इसमें कोई अन्य नई बात ऐसी देखने को नहीं मिली तो पिछले आंधी-तूफानों से अलग हो।

अलर्ट को लेकर गंभीर नहीं थे लोग

आंधी-तूफान को लेकर मौसम विभाग ने जो अलर्ट जारी किया था, उसे लेकर प्रशासन और आम लोग ज्यादा गंभीर नहीं थे। खासकर पहले चरण में आये भयानक आंधी-तूफान के पहले तक, जिसमें उत्तर प्रदेश में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। आमतौर पर इस महीने में इस तरह के आंधी-तूफान आते रहे हैं और मौसम विभाग ने यही अनुमान भी जाहिर किया था। चूंकि आंधी को लेकर किसी तरह का विशेष संकेत नहीं था, इसलिए आंधी और तूफान के अलर्ट में केवल तीव्र वेग का अनुमान जाहिर किया। इस अलर्ट पर ध्यान न देने का नतीजा यह रहा कि तीन चरणों में आये आंधी-तूफान से 200 से अधिक लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

पश्चिमी विक्षोभ है आंधी की वजह

जानकार बता रहे हैं कि पकिस्तान सीमा पर बन रहे पश्चिमी विक्षोभ के कारण यह आंधी-तूफान की स्थिति बन रही है। लखनऊ स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जेपी गुप्ता कहते हैं कि आंधी हर वर्ष आती है। इस बार आंधी की तीव्रता कुछ अधिक थी। मौतों को लेकर तुलनात्मक रूप से कुछ कह पाने में खुद को असमर्थ बताते हुए वे कहते हैं कि इस आंधी-तूफान की तीव्रता जरूर अधिक थी लेकिन इस तरह के आंधी-तूफान आमतौर पर हर वर्ष आते रहे हैं।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned