कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले में एक और गिरफ्तारी, आरोपियों को नेपाल ले जाने वाले को पुलिस ने दबोचा

हिंदू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) में यूपी पुलिस (UP Police) ने एक और गिरफ्तारी की है...

लखनऊ. हिंदू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) में यूपी पुलिस (UP Police) ने एक और गिरफ्तारी की है। यूपी पुलिस ने आरोपी नावेद (Naved) के साथी कामरान (Kamran) को गिरफ्तार किया है। कामरान पर हत्यारोपियों को नेपाल (Nepal) ले जाने का आरोप है। पुलिस के मुताबिक कामरान (Kamran) नाम का शख्स नावेद (Naved) की ट्रेवल एजेंसी (Travel Agency) में काम करने वाला एक कर्मचारी है।


अब तक हो चुकी इनकी गिरफ्तारी

आपको बता दें कि यूपी पुलिस (Uttar Pradesh Police) मामले में गिरफ्तार शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद (Pathan Moinuddin Ahmed) से पूछताछ कर चुकी है। पिछले हफ्ते दोनों को गुजरात से ट्रांजिट रिमांड (Transit Remand) पर लखनऊ लाया गया था। इससे पहले पिछले हफ्ते बरेली (Bareilly) के दरगाह आला हजरत (Dargah Aala Hazrat) के मौलाना सैय्यद कैफी अली की गिरफ्तारी के बाद लॉ स्टूडेंट और पेशे से वकील मोहम्मद नावेद (Mohammad Naved) को यूपी पुलिस (UP Police) और एटीएस (ATS) ने लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था।


बयानों का हो रहा मिलान

जानकारी के मुताबिक इन दोनों आरोपियों से बरेली से गिरफ्तार नावेद (Naved) का सामना कराया गया। इस दौरान हत्या के आरोपियों और नावेद के बयानों को क्रॉस चेक भी किया गया। दरअसल नावेद पर हत्या के आरोपियों को नेपाल पहुंचाने का आरोप है। उस पर नागपुर (Nagpur) से आसिम की गिरफ्तारी के बाद इन आरोपियों को नेपाल से शाहजहांपुर लाने का आरोप है।


आरोपियों को पनाह देने का आरोप

नावेद और मौलाना दोनों पर ही हत्या के आरोपियों शेख अशफाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन अहमद (Pathan Moinuddin Ahmed) को पनाह देने और इलाज करवाने में मदद का आरोप है। आरोप है कि कमलेश तिवारी की हत्या (Kamlesh Tiwari Murder) के बाद फरार हुए दोनों आरोपियों को मौलाना कैफी की ओर से मदद मुहैया कराई गई थी। मदद के तहत कैफी ने दोनों को शरण भी दी थी। नावेद पर आरोप है कि उसने मौलाना कैफी के निर्देश पर दोनों को बरेली (Bareilly) में रुकवाया था और उसके बाद नेपाल बॉर्डर (Nepal Border) तक पहुंचने में मदद की थी। पूछताछ के दौरान ही कामरान (Kamran) का नाम सामने आया, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया है। यह भी पता चला है कि हत्या के आरोपियों को कामरान ही नेपाल (Nepal) लेकर गया था।

यह भी पढ़ें: एटीएस के 11 सवालों के जाल में फंसे कमलेश तिवारी के हत्यारे, किये ये बड़े खुलासे

Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned