यूपी के थानों पर अब एक साल से ज्यादा नहीं रहेगी इनकी तैनाती, हटाये जाएंगे, योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

एडीजी ने कहा कि पुलिस महकमे में एक ही जगह पर लंबे समय तक तैनात रहने वाले लोगों का तबादला जरूरी है।

कानपुर. उत्तर प्रदेश के पुलिस महकमे ने गैंगस्टर विकास दुबे कांड से बहुत बड़ा सबक लिया है। इसके तहत जोन स्तर पर सभी थानों में तैनात ड्राइवर और फॉलोवर का कार्यकाल एक वर्ष से अधिक नहीं होगा। इसके लिए सीओ स्तर से हर माह समीक्षा भी की जाएगी। किसी भी रूप में थाने में भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं होगा। यह बात एडीजी जोन कानपुर जय नारायण सिंह ने पुलिस लाइन में त्रैमासिक अपराध समीक्षा बैठक के बाद कहीं। उन्होंने कहा कि यूपी के थानों में तैनात रहने वाले ड्राइवर और फॉलोवर पुलिस की छवि खराब करने में लगे हैं। पुलिस विभाग में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार के मामले इन्हीं दो पदों से सामने आ रहे हैं। इनको लेकर सरकार ने यह फैसला लिया है।

 

 

ड्राइवर और फॉलोवर कमजोर कड़ी

एडीजी जोन कानपुर जय नारायण सिंह ने एसएसपी समेत सभी पुलिस अधिकारियों के साथ पंचायत चुनाव में हिंसा रोकने के लिए समीक्षा बैठक भी की। जिसमें निर्देश दिए कि ऐसे सभी गांवों को चिन्हित किया जाए, जहां पिछले पंचायत चुनाव अथवा किसी भी चुनाव में हिंसा हुई है। पंचायत चुनाव को लेकर आरक्षण प्रक्रिया चल रही है। ऐसे में जल्द ही संभावित प्रत्याशी भी सामने आ जाएंगे। समय रहते पुलिस को सारी तैयारियों को पूरा करना है। ज्यादा जरूरी है कि इटावा, औरैया जैसे संवेदनशील जिले में पुलिस की तैयारियां समय रहते पूरी कर ली जाएं। उन्होंने साफ कहा कि बिकरू कांड के बाद यह साफ हुआ है कि पुलिस महकमे में एक ही जगह पर लंबे समय तक तैनात रहने वाले लोगों का तबादला जरूरी है। विशेष तौर पर थानों में तैनात ड्राइवर और फॉलोवर इस मामले में कमजोर कड़ी साबित हुए हैं।

 

 

फरार 50 हजार का ईनामी विपुल दुबे गिरफ्तार

विकास दुबे केस में छह महीने से फरार चल रहे इनामी बदमाश विपुल दुबे को पुलिस ने छह महीने बाद सजेती क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है। वह घटना के बाद से ही फरार था और गिरफ्तारी पर आईजी ने 50 हजार का इनाम घोषित किया था। क्राइम ब्रांच, एसटीएफ की टीमें घाटमपुर पहुंच गई हैं। विपुल से पूछताछ कर रही हैं। विपुल पर घटना की साजिश और विकास दुबे के साथ अपराध में शामिल होने का आरोप है। सीओ घाटमपुर रवि कुमार सिंह ने बताया कि बिकरू कांड के एक आरोपी विपुल दुबे को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

 

 

यह भी पढ़ें: इस IPS की दो तस्वीरों ने जमकर बटोरी थी तारीफें, अब इस जिले में एसपी बनते ही छुड़ा दिये अपराधियों के पसीने

 

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned