पुलिसभर्ती पर रोक से प्रभावित हजारों अभ्यर्थियों ने विधानसभा पर किया प्रदर्शन, लिखित परीक्षा का फैसला वापस लेने की मांग

पुलिसभर्ती के रिजल्ट पर रोक से प्रभावित अभ्यर्थियों सीएम योगी से लगाई गुहार।

By: Dhirendra Singh

Published: 24 May 2017, 05:42 PM IST

लखनऊ. यूपी पुलिस 2015-16 में जारी 34 हजार से ज्यादा पदों के रिजल्ट पर लगी रोक से प्रभावित अभ्यर्थियों ने यूपी विधानसभा पर प्रदर्शन किया। अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट द्वारा भर्तियों पर रोक लगाए जाने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड द्वारा 28,916 पुरुष और 5800 महिला पुलिस आरक्षी व आरक्षी पीएसी के पदों के लिए हुई भर्ती के रिजल्ट न घोषित करने को लेकर विधानसभा का घेराव किया। वहीं अभ्यर्थियों ने पुलिस भर्ती में लिखित परीक्षा कराने के फैसले को वापस लेने का भी प्रदेश सरकार पर दबाव बनाया।
उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड द्वारा इन पदों के लिए दिसंबर 2015 से प्रक्रिया शुरु की गई थी। लेकिन बीच में प्रक्रिया के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की गई। इसके बाद 27 मई 2016 को हाईकोर्ट ने इस भर्ती के रिजल्ट पर अंतिम आदेश तक रोक लगा दी थी। लेकिन अब तक इस भर्ती पर अंतिम फैसला नहीं आया है। इससे प्रभावित अभ्यार्थियों सीएम से इस मामले में हस्ताक्षेप करने और भर्ती जल्दी बहाल कराने की मांग रखी।

लिखित परीक्षा के विरोध में अभ्यर्थी
यूपी में करीब 1.50 लाख पुलिसकर्मियों के पद खाली है। इसे भरने की प्रक्रिया साल 2017 से ही प्रदेश सरकार शुरु कर रही है। लेकिन विधानसभा सत्र के दौरान हाल में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अब पुलिसभर्ती में लिखित परीक्षा भी होगी। बुधवार को सैकड़ों अभ्यर्थी इसके विरोध में भी विधानसभा पर जमा हुई। उन्होंने मांग रखी कि पुलिसभर्ती में पूर्व की तरह ही मेरिट को आधार रखा जाए। बता दें कि अभी तक पुलिस विभाग में कुछ पदों पर मेरिट और शारीरिक परीक्षा के आधार पर ही भर्ती होती थी।
Show More
Dhirendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned