अब 40 साल की उम्र तक मिलेगी नौकरी, इंटरव्यू भी नहीं होगा

उत्तर प्रदेश सेतु निगम में भर्ती के लिए आयु सीमा 35 से बढ़ाकर 40 उम्र कर दी गई है।

 

लखनऊ. उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की अध्यक्षता में राज्य सेतु निगम के निदेशक मंडल की बैठक बुध‌वार को की गई। जिसमें सेतु निगम की सेवाओं में भर्ती की आयु 35 वर्ष से बढ़ाकर 40 वर्ष करने की संस्तुति की गई। साथ ही निदेशक मंडल ने निगम में समूह-ग के पदों के लिए इंटरव्यू खत्म कर केवल लिखित परीक्षा के आधार पर भर्ती करने का अनुमोदन प्रदान किया।

यूपी सेतु निगम के सभागार में दिए गए निर्देश

निदेशक मंडल ने यह निर्देश बुधवार को यूपी सेतु निगम के सभागार में हुई 177वीं बैठक में दिए। बैठक की अध्यक्षता डेप्युटी सीएम और निदेशक मंडल के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने की। निदेशक मंडल ने पुल निर्माण के साथ ही निगम को अन्य क्षेत्रों में भी भागीदारी करने के निर्देश दिए। कहा, जिन पुलों का अभी तक नामकरण नहीं हुआ है, उनका नामकरण स्वाधीनता सेनानी या फिर उस क्षेत्र के लिए विशिष्ट योगदान करने वाले महापुरुषों के नाम से किया जाए।

सेवानिवृत्ति के बाद भी चलेगी घोटाले की जांच

निर्देश दिए गए कि जिन मामलों में जांच चल रही है, उसका निस्तारण जल्द से जल्द किया जाए। अनियमितता व भ्रष्टाचार के मामलो की जांच सेवा निवृत्ति के बाद भी जारी रहेगी। बैठक में पीडब्ल्यूडी के सचिव समीर वर्मा, विशेष सचिव वित्त ओपी श्रीवास्तव, विभागाध्यक्ष वीके सिंह, सेतु निगम के एमडी उत्तम कुमार गहलोत सहित निदेशक मंडल के सदस्य मौजूद रहे।

बजट के लिए नई समिति की करें तैयारी

निदेशक मंडल ने स्वास्थ्य सुरक्षा एवं पर्यावरण की दृष्टि से लेबोरेट्री बनाने, मशीनों का उचित रख-रखाव के साथ-साथ तकनीकी प्रशिक्षण दिए जाने पर बल दिया। हर स्तर पर सुरक्षा मानकों का प्रयोग करने के निर्देश दिए। डेप्युटी सीएम ने ऐसा समाधान खोजने के निर्देश दिए, जिससे पुलों के निर्माण का कार्य लंबा न खिंचे और उसकी लागत न बढ़े। निदेशक मंडल ने इसके लिए सेतु निगम के लिए बजट निर्धारण के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन करने के निर्देश दिए ताकि तय समय और गुणवत्ता के साथ कार्य पूरा हो सके।

इस तरह से विकसित करें नई तकनीक

इंजिनियरों को निर्देश दिए हैं कि पुरानी तकनीक के जगह पुल निर्माण में नई तकनीक का प्रयोग किया जाए। पुरानी और अनुपयोगी हो चुकी मशीनों को बदल कर उनके स्थान पर नई तकनीक की मशीनों से काम लिया जाए। निदेशक मंडल ने वर्ल्ड क्लास कम्पनीज के साथ जॉइंट वेन्चर बनाने का भी सुझाव दिया। मंडल के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने अधिकारियों से ऐसी तकनीक विकसित करने को कहा, जिससे पुलों में आने वाली खराबी का पहले से पता चल जाए।

Mahendra Pratap
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned