घट गई सीमेंट की डिमांड, मार्च से नहीं बढ़े दाम, मकान बनाने क़ा बढ़िया मौका

यूपी की अब तक की बड़ी खबरें।

By: Neeraj Patel

Published: 08 May 2021, 07:37 AM IST

लखनऊ. कोरोना संक्रमण (Corona Virus) की रोकथाम के लिए उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में आंशिक लॉकडाउन लगने, चुनाव और लेबर न मिलने से अप्रैल के दौरान कंस्ट्रक्शन और सीमेंट (Cement ) की मांग में भारी मात्रा में कमी देखने में मिली। यूपी समेत कई राज्यों में डिमांड घटने से सीमेंट की कीमतों में स्थिरता देखने को मिली। ऐसा बताया जा रहा है कि मार्च माह से सीमेंट के दाम नहीं बढ़े हैं। मई माह में सिर्फ दक्षिण भारत को छोड़कर देश के कई अन्य राज्यों में सीमेंट के दामों में बढ़ोतरी नहीं हुई है। ब्रोकरेज फर्म का मानना है कि अप्रैल 2020 में देश भर में लॉकडाउन था, कीमतें भी अधिक थी। कोरोना के बढ़ते मामलों से सीमेंट की मांग प्रभावित हुई है। इसी वजह से कंपनियों ने दाम न बढ़ाने का फैसला लिया है। अप्रैल में कंपनियों ने प्रति बैग 5 रुपए कीमत बढ़ाई थी। कानपुर में सीमेंट की डिमांड 60 से 70 फीसदी तक घटी है। डीलरों का कहना है कि लेबर की कमी और पेमेंट में देरी के मामले ज्यादातर बढ़े हैं।

पिछले 7 दिन में कम हुए 50 हजार एक्टिव केस, नए मामलों में गिरावट जारी

लखनऊ. कोरोना के खिलाफ पूरे दम-खम से लड़ रहे उत्तर प्रदेश को बड़ी राहत मिली है। बीते सात दिनों में 50 हजार एक्टिव कोविड केस कम हुए हैं, जबकि रिकवरी दर हर दिन बेहतर होती जा रही है। यह हाल तब है जबकि प्रदेश में टेस्टिंग का महाभियान जारी है और हर दिन औसतन सवा दो लाख टेस्ट हो रहे हैं। आंकड़ों की गवाही लें तो बीते 30 अप्रैल को कुल 03 लाख 10 हजार केस एक्टिव थे। यह कोरोना काल में अब का सर्वाधिक एक्टिव केस का आंकड़ा है। वहीं 07 मई को महज एक सप्ताह की अवधि में 55,000 एक्टिव केस कम हुए हैं। 24 अप्रैल को सर्वाधिक 38 हजार पॉजिटिव केस आए थे, तब से नए केस में लगातार गिरावट आ रही है। साथ ही, स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है।

हाईकोर्ट ने कहा- तीन-चार महीने में पूरे प्रदेश में हो जाएं टीकाकरण, सरकार बताए कैसे देगी अंजाम

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने प्रदेश सरकार से कहा है कि कोराना संक्रमण पर जल्दी काबू पाने के लिए वैक्सीन खरीदने की लंबी टेंडर प्रक्रिया अपनाने के बजाए वैक्सीन निर्माताओं से भारतीय राजनयिक के जरिए सीधा संवाद करे। कोर्ट ने कहा कि पूरे प्रदेश में टीकाकरण का कार्य तीन से चार माह में पूरा कर लिया जाए तभी इसका लाभ मिलेगा। अन्यथा तेजी से फैल रहे संक्रमण और तीसरी लहर की आशंका के बीच अब तक किया गया प्रयास निरर्थक हो जाएगा। कोर्ट ने अंतरराष्ट्रीय बाजार से टीके खरीदने का रास्ता सुझाया है और पूछा है कि इस प्रक्रिया को सरकार कैसे अंजाम देगी। कोर्ट ने टीकाकरण कार्यक्रम पर भी अगली सुनवाई पर योजना मांगी है। इस याचिका की सुनवाई 11 मई को होगी।

पुलिस ने कानपुर में बिना अनुमति के चल रही फिल्म शूटिंग रोकी, महामारी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज

कानपुर. देश भर में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले और भयावह स्थिति को देखने यूपी सरकार लॉकडाउन की घोषण कर चुकी है। ऐसे में अब भी कहीं-कहीं कोविड प्रोटोकॉल (Covid Protocol) का उल्लंघन होता नजर आ रहा है। हालाकि लॉकडाउन पालन कराने में प्रशासन कोई रिस्क नहीं ले रहा है। इसके तहत प्रशासन लगातार बेपरवाह लोगों के प्रति कार्रवाई भी कर रही है। इसी कड़ी में बिठूर पुलिस बिना अनुमति चल रही फिल्म की शूटिंग को बंद कराया और महामारी एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज की। बढ़ती मृत्यु और संक्रमण दर के दौर में ऐसे लापरवाह लोगों के विरुद्ध कार्रवाई करना अतिआवश्यक भी हो जाता है जो कि संक्रमण के खतरे को बढ़ा रहे हैं।

हाइवा ने ट्रक को मारी टक्कर, 100 फीट गहरी खाई में गिरा ट्रक, महिला समेत 4 की मौत

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में ट्रक और हाइवा की जोरदार टक्कर हो गई। इस हादसे के बाद ट्रक 100 फीट नीचे खाई में जा गिरा। जिससे ट्रक पर सवार एक महिला समेत चार लोगों की मौके पर मौत हो गई। जबकि तीन लोग घायल हो गए। सूचना के बाद मौके पर पहुंचे स्थानीय पुलिस व आसपास के लोगों ने दुर्घटना में घायल को तत्काल हिंडाल्को अस्पताल भेजा गया। वहीं, पुलिस ने चारों मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और आगे की कार्रवाई में जुट गई है।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned