PCS-J का रिजल्ट घोषित, लखनऊ की स्वरांगी शुक्ला ने किया टॉप

PCS-J का रिजल्ट घोषित, लखनऊ की स्वरांगी शुक्ला ने किया टॉप

Prashant Srivastava | Publish: Oct, 13 2017 08:40:05 PM (IST) | Updated: Oct, 14 2017 09:47:31 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

UPPSC की ओर से PCS J 2016 का परिणाम घोषित हो गया है। लखनऊ की स्वरांगी ने किया टॉप

लखनऊ. UPPSC की ओर से उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा सिविल जज (जू.डि) मुख्य परीक्षा-2016 का परिणाम घोषित हो गया है। बीते 18 जून को लिखित परीक्षा का परिणाम आया था जिसके बाद 669 अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था जिसके बाद खाली पड़े 218 पदों के लिए चयन किया गया। इस परीक्षा में लखनऊ की स्वरांगी शुक्ला टॉपर बनीं। वहीं विनोद जोशी दूसरे व विनोद कुमार पांडे तीसरे नंबर पर रहे। राजधानी के 20 अभ्यर्थियों का इसमें चयन हुआ है।

लखनऊ की रहने वाली स्वरांगी के पिता विशंभर दयाल शुक्ला आईपीएस अधिकारी हैं जबकि उनकी मम्मी रश्मि शुक्ला हाऊस वाइफ हैं। स्वरांगी ने लखनऊ के सिटी मॉन्टेसरी स्कूल से पढ़ाई की। इस दौरान उन्होंने हाईस्कूल में 95 फीसदी मार्क्स हासिल किए जबकि 94.2 फीसदी अंकों के साथ इंटर की परीक्षा पास की। वह पीसीएस-जे की तैयारी के वक्त रोजाना छह से आठ घंटा पढ़ाई करती थीं।

स्वरांगी के मुताबिक,बारहवीं के बाद उन्होंने अपनी राह बदल ली। साइंस के बजाए लॉ फील्ड चुनी। 2011 में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी गांधीनगर मेंं उन्होंने 5 साल के लिए बीएससी लॉ (ऑनर्स) कोर्स में एडमिशन लिया। साइंस में इंटरेस्ट ना होने की वजह से उन्होंने लॉ फील्ड में करियर बनाने का फैसला किया। 2016 में कोर्स कंप्लीट करने के बाद मैं लखनऊ आ गई। उसके बाद उसने अमित लॉ इंस्टिट्यूट से कोचिंग करने लगी। इस एग्जाम में टॉप करने के लिए हर रोज 6-8 घंटे की पढ़ाई वो करती थी। लखनऊ की रहने वाली स्वरांगी के पिता विशंभर दयाल शुक्ला पुलिस विभाग में कार्यत हैं जबकि उनकी मम्मी रश्मि शुक्ला हाऊस वाइफ हैं। स्वरांगी ने लखनऊ के सिटी मॉन्टेसरी स्कूल से पढ़ाई की।

बीते 18 जून को लिखित परीक्षा का परिणाम आया था जिसके बाद 669 अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था जिसके बाद खाली पड़े 218 पदों के लिए चयन किया गया।

शुक्रवार को ही यूपीपीएससी की ओर से तीन पदों पर कुलसचिवों का भी चयन किया गया है। इनमें विनोद कुमार सिंह, विनीता यादव और अमरेंद्कर कुमार सिंह के नाम शामिल हैं।

Ad Block is Banned