UPSC प्री की परीक्षा में डिजिटल इंडिया व जीएसटी के चर्चे

UPSC प्री की परीक्षा में डिजिटल इंडिया व जीएसटी के चर्चे
upsc

| Updated: 18 Jun 2017, 07:35:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन का प्रीलिम्स परीक्षा रविवार को आयोजित की गई। यह परीक्षा राजधानी के 45 सेंटर्स पर दो पाली में संपन्न हुई।

लखनऊ. यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन का प्रीलिम्स परीक्षा रविवार को आयोजित की गई। यह परीक्षा राजधानी के 45 सेंटर्स पर दो पाली में संपन्न हुई। लखनऊ के बीएसएनवी, टीडी गर्ल्स इंटर कालेज सहित अन्य सभी गवर्नमेंट इंटर कालेजों को एग्जाम के लिए सेंटर बनाया गया था। एग्जाम दो शिफ्ट में आयोजित किया गया था। पहली शिफ्ट के एग्जाम सुबह 9:30 से 11:30 बजे और दूसरी शिफ्ट 2:30 से 4:30 बजे आयोजित की गई थी। परीक्षा में डिजिटल इंडिया व जीएससी से जुड़े सवाल भी पूछे गए।

बीएसएनवी कॉलेज एग्जाम देने आए प्रभात ने बताया, यूपीएससी का पेपर ज्यादा कठिन नहीं था लेकिन ज्यादातर सवाल करेंट अफेयर्स से थे। हिस्ट्री, ज्योग्राफी और कॉमर्स को ध्यान में रखकर पेपर बनाया गया था। जीएसटी, कैशलेस ट्रांजेक्शन, डिजिटल इंडिया के बारे में भी क्वेश्चन पूछा गया था। कई सवाल मार्केटिंग से रिलेटेड भी आए थे। इनमें डिजिटिल इंडिया व जीएसटी के सवाल भी थे। फर्स्ट पेपर 100 मार्क्स का था। ओएमआर सीट पर ही आंसर टीक करने थे। इसमें 0.33 परसेंट की माईनस मार्किंग भी थी। इसलिए केवल उन्हीं क्वेश्चन को टच किया जिनके आंसर अच्छे से पता थे। कुल मिलाकर इस बार का पेपर लास्ट ईयर से अच्छा आया था।

सीतापुर से एग्जाम देने आए दिव्यांश ने बताया पेपर जैसा सोचा उससे थोड़ा सा डिफरेंट था लेकिन आंसर देने में ज्यादा प्रॉब्लम नहीं आई। 2 घंटे का टाइम पेपर सॉल्व करने के लिए पर्याप्त था। मैंने 50 परसेंट क्वेश्चन को टच किया। ज्यादातर क्वेश्चन मेरे पढ़े हुए थे। मार्केटिंग, डिजिटल इंडिया और कैशलेस ट्रांसजेक्शन के बारे में क्वेश्चन पूछा गया था। उसके बारे में पहले से ही काफी कुछ पढ़ रखा था। इसलिए आंसर देने में ज्यादा प्रॉब्लम नहीं आई। कुल मिलाकर पेपर अच्छा रहा।

यूपीएससी ने कैंडि‍डेट्स को काला बाल पाइंट पेन लेकर एग्जाम सेंटर पर पहुंचने के निर्देश दिए गए थे। काला बाल पाइंट पेन से ही ओएमआर शीट्स भरी जाएगी और अटेंडेंस दर्ज की गई। एग्जामिनेशन सेंटर पर इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स जैसे सेलुलर मोबाइल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे लैपटॉप, ब्लूट्रुथ डिवाइस और कैलकुलेटर प्रतिबंधित था। कीमती सामग्री और बैग भी सेंटर पर नहीं ले जा सकते थे।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned