UP Budget 2021-22 : चुनावी बजट में किसानों को मुफ्त पानी, सस्ता लोन, अयोध्या-काशी के लिए भी खोला खजाना

- यूपी के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा 5.50 लाख करोड़ का बजट पेश
- छात्रों को टेबलेट तो पूर्वांचल और बुंदेलखंड को सड़क, पश्चिमी यूपी में एयरपोर्ट
- दो नयी योजनाएं, कोविड टीकाकरण के लिए 50 करोड़ की व्यवस्था

By: Hariom Dwivedi

Published: 22 Feb 2021, 05:47 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने यूपी के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा 5.50 लाख करोड़ का बजट पेश कर नया इतिहास रचा। इसी के साथ यह प्रदेश का पहला पेपरलेस बजट है जो मोबाइल एप पर उपलब्ध है। योगी सरकार ने अपने चुनावी बजट में किसानों को मुफ्त पानी और आसान शर्तो पर लोन देकर उन्हें लुभाने की कोशिश की है तो बजट में अयोध्या, काशी और मथुरा जैसे धार्मिक स्थलों के लिए भी खूब धन दिया गया है। पूर्वांचल और गोरखपुर एक्सप्रेस पर बजट का बड़ा हिस्सा खर्च होगा तो गोरखपुर, वाराणसी, आगरा और कानपुर में मेट्रो ट्रेन के संचालन के लिए भी भारी भरकम राशि दी गयी है। जबकि, पश्चिमी यूपी में जेवर एयरपोर्ट के लिए खजाना खोला गया है। इस तरह सरकार ने प्रदेश के सभी हिस्सों को खुश करने की कोशिश की है। सरकार ने दो नयी योजनाएं भी शुरू की हैं, लेकिन कोविड टीकाकरण के लिए इतनी बड़ी आबादी के लिए सिर्फ 50 करोड़ की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा बजट में जिन मंडलों में राज्य विश्वविद्यालय नहीं हैं। वहां विश्वविद्यालय बनाने का एलान किया है। इसके अलावा, ओपन एअर जिम और गांवों में खेल का मैदान बनाने की बात कही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी कोशिश है कि प्रदेश के प्रत्येक गांव में एक खेल का मैदान हो। सरकार ने मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना को और परिष्कृत कर लागू किये जाने का निर्णय किया है, जिसके तहत 1200 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में की गई है। वित्तीय वर्ष 2021-2022 से महिला सामथ्र्य योजना के नाम से नई योजना शुरु करने का फैसला किया गया है। इस योजना के लिए 200 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में प्रस्तावित की गई है।

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना को 100 करोड़ रुपए, जानें- बजट में किसे क्या मिला

अब तक का सबसे बड़ा बजट
वित्त मंत्री ने 2021-2022 का कुल 5 लाख 50 हजार 270 करोड़ रुपए का बजट पेश किया। यह बजट पिछले वित्तीय वर्ष के बजट से करीब 38 हजार करोड़ रुपया अधिक है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में 5.12 लाख करोड़ रुपए का बजट था। यूपी की अर्थव्यवस्था को वन ट्रिलियन डॉलर बनाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है। देश के अन्य राज्य में अभी तक किसी का भी इतना बड़ा बजट नहीं है।

पेपरलेस बजट
केंद्रीय आम बजट में केंद्र सरकार की देखादेखी यूपी सरकार ने भी अपना पहला पेपरलेस बजट पेश किया। यूपी बजट ऐप पर भी उपलब्ध है। योगी सरकार ने इसके लिए बजट ऐप तैयार कराया। इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : बजट में महिलाओं के लिए कई घोषणाएं, जानें- क्या है समर्थ योजना जिससे बनेंगी आत्मनिर्भर


योगी ने बनाया रिकॉर्ड
सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने नाम एक और रिकार्ड दर्ज करा लिया है। यूपी में भाजपा सरकार के वह पहले ऐसे सीएम बन गए हंै जिनकी अगुवाई में लगातार पांचवीं बार बजट पेश किया गया। भाजपा के कल्याण सिंह, राम प्रकाश गुप्ता तथा राजनाथ सिंह ने भी यूपी की बागडोर संभाली थी,पर कोई भी तीन बार से अधिक बजट नहीं पेश कर सका था।

पांच बजट, पांच प्राथमिकताएं
सीएम योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालने के बाद हर बार अलग-अलग थीम पर बजट पेश किया-
बजट 2017-18 किसानों को समर्पित
बजट 2018-19 औद्योगिक विकास को समर्पित
बजट 2019-20 महिलाओं को समर्पित
बजट 2020-21 युवाओं और रोजगार को समर्पित
बजट 2021-22 समग्र विकास को समर्पित

यह भी पढ़ें : सीएम योगी ने बजट को बताया शानदार, कहा- हर तबके का ध्यान रखा गया

यूपी बजट की खास बातें
- किसानों को मुफ्त सिंचाई की सुविधा के लिए 700 करोड़ रुपए।
- मजदूरों को तोहफा, अब घंटे के हिसाब से मिलेगी मजदूरी।
- वकीलों के लिए चैम्बर बनाए जाएंगे।
- जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर छह रनवे होगा।
- जेवर हवाई अड्डे के लिए 2,000 करोड़ रुपए।
- वाराणसी पर्यटन विकास के लिए 100 करोड़ रुपए।
- कानपुर मेट्रो रेल के लिए 597 करोड़ रुपए की व्यवस्था।
- मेरठ को स्पोट्र्स यूनिवर्सिटी की सौगात।
- गांवों में स्टेडियम के लिए 25 करोड़ रुपए।
- मंडी परिषद की तीन फीसद कमाई गौशालाओं को देंगे।
- एसजीपीजीआई में आधुनिक डायबिटीज सेंटर बनेगा।
- रायबरेली व गोरखपुर में एमबीबीएस की पढ़ाई शुरू।
- श्रीराम जन्मभूमि मंदिर व अयोध्या धाम तक पहुंच मार्ग के लिए 300 करोड़ रुपये
- अयोध्या में पर्यटन सुविधाओं के विकास एवं सुंदरीकरण के लिए 100 करोड़ रुपये
- अयोध्या में निर्माणाधीन एयरपोर्ट के लिए 101 करोड़ रुपये
- वाराणसी में पर्यटन सुविधाओं के विकास और सुंदरीकरण के लिए 100 करोड़ रुपये
- पर्यटन स्थलों के विकास के लिए 200 करोड़ रुपये
- विंध्याचल और नैमिषारण्य में स्थल विकास के लिए 30 करोड़ रुपये
- चित्रकूट में पर्यटन विकास की विभिन्न योजनाओं के लिए 20 करोड़ रुपये

यह भी पढ़ें : UP Budget 2021 22 पर बोले अखिलेश, पेपर फ्री बजट नहीं योगी फ्री यूपी चाहते हैं लोग

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned