वैश्विक महामारी कोरोना के चलते संकट में यूपी की अर्थव्यवस्था, आ सकती है 22 फीसदी तक गिरावट

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस जैसी आपदा से उबरने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार जी जान से कोशिशें कर रही है, लेकिन फिर भी यूपी की अर्थव्यवस्था संभलने का नाम नहीं ले रही।

लखनऊ. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस जैसी आपदा से उबरने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार जी जान से कोशिशें कर रही है, लेकिन फिर भी यूपी की अर्थव्यवस्था संभलने का नाम नहीं ले रही। कोरोना के चलते प्रदेश की अर्थव्यवस्था को तगड़ा झटका लगा है। चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही की अगर बात करें तो उसमें सूबे की अर्थव्यवस्था में पिछले वित्तीय वर्ष के पहले तीन महीनों की तुलना में 22.5 फीसद गिरावट का अनुमान है। कोरोना महामारी का उद्योग पर जगत सबसे ज्यादा असर हुआ है, जबकि कृषि क्षेत्र ने अर्थव्यवस्था को संभाले रखने में काफी भूमिका निभायी है।

प्रदेश सरकार के नियोजन विभाग के अर्थ एवं संख्या प्रभाग ने वर्तमान वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही की तुलना वर्ष 2019-20 की प्रथम तिमाही से करते हुए सकल व निवल राज्य घरेलू उत्पाद के अनुमान स्थिर (2011-12) व प्रचलित भावों पर तैयार किये हैं। वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में सकल राज्य घरेलू उत्पाद स्थिर भावों पर 1,99,567 करोड़ रुपये होने का अनुमान है जबकि 2019-20 की पहली तिमाही में यह 2,57,639 करोड़ रुपये था।

जीएसडीपी में 22 फीसदी की गिरावट

स्थिर भावों पर प्राथमिक (कृषि व उससे जुड़ी गतिविधियां) क्षेत्र में सकल राज्य घरेलू मूल्य वर्धन (जीएसवीए) की वृद्धि दर 2019-20 की पहली तिमाही की तुलना में 4.5 प्रतिशत होने का अनुमान है। वहीं द्वितीयक (मैन्युफैक्चरिंग व उद्योग) तथा तृतीयक (सेवा) क्षेत्र की वृद्धि दर -42.9 प्रतिशत और -22.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है। प्रचलित भावों पर भी जीएसडीपी में 22 फीसदी की गिरावट का अनुमान है।

2.7 फीसदी वृद्धि का अनुमान

आपको बता दें कि वित्तीय वर्ष 2019-20 की आखिरी तिमाही (जनवरी-मार्च 2020) में उत्तर प्रदेश के सकल और निवल राज्य घरेलू उत्पाद में 2018-19 की आखिरी तिमाही की तुलना में 2.7 फीसद वृद्धि का अनुमान लगाया गया है। स्थिर (2011-12) भावों पर साल 2019-20 की चौथी तिमाही में प्रदेश का सकल राज्य घरेलू उत्पाद 3,18,626 करोड़ रुपये अनुमानित किया गया है, जो कि साल 2018-19 की समान अवधि के सापेक्ष 2.7 प्रतिशत की वृद्धि को दिखाता है। स्थिर भावों पर साल 2019-20 की चौथी तिमाही में यूपी का निवल राज्य घरेलू उत्पाद 2,78,005 करोड़ रुपये अनुमानित किया गया है, जो कि साल 2018-19 के आखिरी तीन महीने के सापेक्ष 2.7 प्रतिशत ज्यादा है।

coronavirus COVID-19
Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned