यूपी विधानसभा की इन 8 सीटों पर नवम्बर में होंगे उपचुनाव, जीत की रणनीति तैयार करने में जुटे सभी दल

- राजनीतिक दलों के लिए सेमीफाइनल की तरह होंगे यूपी विधानसभा उपचुनाव
- बीजेपी के कब्जे वाली 6 और सपा के कब्जे वाली 2 सीटें हैं खाली
- विस चुनाव से पहले हर दल के पास अपनी तैयारियों को परखने का होगा अंतिम मौका

By: Hariom Dwivedi

Updated: 05 Sep 2020, 05:32 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. भारत निर्वाचन आयोग ने बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही उत्तर प्रदेश की रिक्त विधानसभा सीटों पर उपचुनाव कराने का ऐलान किया है। इसके बाद उत्तर प्रदेश का सियासी पारा चढ़ने लगा है। अलग-अलग कारणों से प्रदेश की आठ विधानसभा सीटें रिक्त हैं। छह सीटें भारतीय जनता पार्टी और दो सीटें समाजवादी पार्टी के कब्जे वाली हैं। इन सीटों के परिणाम से भले ही विधानसभा में बहुमत पर कोई विशेष फर्क न पड़े, लेकिन 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले होने वाले ये उपचुनाव राजनीतिक दलों के लिए सेमीफाइनल की तरह ही होंगे। विस चुनाव से पहले हर दल के पास उपचुनाव के जरिए अपनी तैयारियों और समीकरणों को परखने का अंतिम मौका होगा। फिलहाल, सभी दलों ने प्रत्याशियों के नाम पर मंथन शुरू कर दिया है।

बिहार विधानसभा का कार्यकाल 29 नवम्बर 2020 को समाप्त हो रहा है। चुनाव आयोग का कहना है कि बिहार विधानसभा चुनाव को 29 नवंबर से पहले पूरा करना है। इसी समय विभिन्न राज्यों की 64 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव कराया जाएगा, जिनमें उत्तर प्रदेश की आठ विधानसभा सीटें शामिल हैं। प्रदेश की जिन आठ सीटों पर उपचुनाव प्रस्तावित हैं, उनमें फिरोजाबाद की टुंडला सीट है, जहां से विधायक चुने गये भाजपा के डॉ. एसपी सिंह बघेल ने सांसदी जीतने के बाद विधायकी से इस्तीफा दे दिया था। मामला कोर्ट में लम्बित होने के चलते अब तक यहां उपचुनाव नहीं हो सका है। उन्नाव की बांगरमऊ विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के कुलदीप सिंह सेंगर जीते थे। उम्रकैद की सजा मिलने के कारण उनकी विधायकी रद कर दी गई थी। 2017 के विधानसभा चुनाव में रामपुर की स्वार सीट से समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां के पुत्र अब्दुल्ला आजम जीते थे। जन्मतिथि विवाद के चलते उनकी सदस्यता निरस्त कर दी गई थी।

कानपुर की घाटमपुर सीट और अमरोहा की नौगावां सादात सीट भी रिक्त है। कोरोना महामारी के चलते घाटमपुर से बीजेपी की कमल रानी वरुण और नौगावां सादात से चेतन चौहान की मृत्यु हो चुकी है। दोनों योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। इसके अलावा सपा विधायक पारसनाथ यादव के निधन से जौनपुर की मल्हनी विधानसभा सीट रिक्त है। वहीं, देवरिया सदर से बीजेपी के जन्मेजय सिंह और बुलंदशहर से बीजेपी के वीरेंद्र सिरोही की सीटें भी निधन के कारण रिक्त हैं।

बीजेपी के कब्जे वाली सीटें
टूंडला (फिरोजाबाद)
बांगरमऊ (उन्नाव)
बुलंदशहर सदर (बुलंदशहर)
देवरिया सदर (देवरिया)
घाटमपुर (कानपुर)
नौगवां सादात (अमरोहा)

सपा के कब्जे वाली सीटें
स्वार (रामपुर)
मल्हनी (जौनपुर)

BJP Congress
Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned