वरुण बोले-पिछले पांच साल में मैंने एनइसी में भाग नहीं लिया

सियासी गलियारे में अटकलों का बाजार गर्म,क्या मां-बेटे अब ज्वाइन करेंगे कांग्रेस

By: Ritesh Singh

Published: 08 Oct 2021, 05:44 PM IST

लखनऊ. पीलीभीत से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में समिति यानी एनइसी में शामिल न किए जाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि उन्होंने पिछले पांच वर्षो में एक भी एनइसी में भाग नहीं लिया। इसलिए नयी कार्यकारिणी में शामिल न किया जाना कोई आश्र्चयजनक बात नहीं है। वरुण के बयान के बाद एक बार फिर पूर्व केंद्रीय मंत्री और सुलतानपुर से बीजेपी सांसद मेनका गांधी और वरुण गांधी को लेकर सियासी गलियारे में अटकलों का बाजार गर्म है। कयास लगाया जा रहा है कि भाजपा में खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे मां-बेटे कांग्रेस ज्वाइन कर सकते हैं।

बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व से मां-बेटे को विशेष तवज्जो नहीं दे रहा है। गुरुवार को घोषित हुई बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मेनका और वरुण गांधी को नहीं शामिल करना इस बात का उदाहरण है। मेनका गांधी तो संतुलित बयान देती रहीं हैं, उन्होंने खुलकर भाजपा के खिलाफ नहीं बोला लेकिन वरुण लगातार सरकार और पार्टी की नीतियों के खिलाफ बोलते रहे हैं।

वरुण ने बताया क्यों हुए राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर किए जाने की बाद सांसद वरुण गांधी की प्रतिक्रिया सामने आई है। वरुण गांधी ने कहा कि पिछले 5 सालों में उन्होंने एक भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति (एनइसी में हिस्सा नहीं लिया है। इसलिए उन्हें इसमें शामिल नहीं किया गया। गुरुवार को भाजपा ने 80 सदस्यीय राष्टीय कार्यकारिणी समिति की सूची की घोषणा की थी। जिसमें मेनका गांधी और वरुण गांधी को भी जगह नहीं मिली थी।

किसानों के पक्ष में वरुण ने उठायी आवाज

करीब सालभर पहले शुरू हुए किसान आंदोलन को लेकर बीजेपी सांसद वरुण गांधी लगातार किसानों के पक्ष में ट्विटर और पत्रों के माध्यम आवाज उठा रहे हैं। हाल ही लखनऊ में आयोजित किसान सम्मेलन में सीएम योगी ने जब गन्ने का समर्थन मूल्य 25 रुपए प्रति कुंतल बढ़ाने का एलान किया, तब भी वरुण गांधी ने उनके इस फैसले पर सवाल उठाते हुए गन्ने का समर्थन मूृल्य 400 रुपए करने की मांग सीएम योगी को एक पत्र लिखकर की थी। इसके अलावा वरुण ने गन्ना किसानों को 50 रुपए अतिरिक्त बोनस देने की मांग की थी। लखीमपुर की घटना के बाद वरुण गांधी योगी सरकार के रवैये से खासे नाराज दिखे थे। उन्होंने किसानों को न्याय दिलाने के लिए उच्चस्तरीय जांच की मांग तक की है। इन सबके अलावा समय-समय पर वरुण गांधी ने किसानों के हितों और कानून व्यवस्था को लेकर यूपी सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते रहे है।

मोदी 2-0 में मेनका को नहीं मिली जगह

वहीं मोदी सरकार-01 में केंद्रीय मंत्री रहीं मेनका गांधी को मोदी सरकार 2-0 में कोई जगह नहीं मिली। मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल में मेनका गांधी को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया। इतना ही पिछली राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल रहीं मेनका गांधी को इस बार नहीं शामिल किया गया। पार्टी नेताओं की मानें तो मेनका और वरुण गांधी की कार्यशैली से पार्टी नेतृत्व में नाराजगी है। यह भी कहा जा 2024 के लोकसभा चुनाव में इन दोनों नेताओं को भाजपा साइड लाइन कर सकती है।

BJP Congress
Show More
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned