महंगाई ने बिगाड़ा रसोई का बजट, फल से भी ज्यादा महंगी हुई सब्जी

लॉकडाउन के दौरान सब्जियों की खरीद कम रही। इस कारण कई सब्जियां मंडी में पड़े पड़े ही सड़ गईं। फलस्वरूप इस सीजन में सब्जियों की आवक एक तिहाई तक कम है।

By: Karishma Lalwani

Published: 11 Oct 2020, 09:30 AM IST

लखनऊ. कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन में लगभग सभी के कार्य प्रभावित हुए हैं। बड़े से बड़ा व्यापार हो या छोटे से छोटे काम, इस लॉकडाउन ने हर किसी की आर्थिक स्थिति को प्रभावित किया है। यहां तक कि सब्जी के भाव भी प्रभावित हुए हैं। लॉकडाउन के दौरान सब्जियों की खरीद कम रही। इस कारण कई सब्जियां मंडी में पड़े पड़े ही सड़ गईं। फलस्वरूप इस सीजन में सब्जियों की आवक एक तिहाई तक कम है। इस कारण सब्जियां अब फलों से भी महंगी मिलने लगी हैं।

फल से भी महंगी हरी मिर्च

हरी मिर्च और धनिया सबसे महंगे फल के रेट को भी मात दे रही हैं। हरी मिर्च 80 से 100 रुपए किलो बिक रही है, जबकि सेब 60 से 80 रुपए किलो। वहीं हरा धनिया 250 से 300 रुपए किलो है। बाकी अन्य सब्जियों के भावों भी औसतन 30 से 40 रुपए किलो हैं, जबकि टमाटर का भाव 80 रुपये किलो है।

एक सप्ताह में डेढ़ गुना बढ़ गए दाम

सब्जियों के भाव एक सप्ताह में तेजी से बढ़े हैं, क्योंकि बारिश से सब्जी की पैदावार कम है। किसानों ने मॉनसून सीजन में सब्जियों की बुवाई कम की है। सोशल मीडिया पर लगातार लॉकडाउन का हल्ला था। ऐसे में मंडियों के लिए मूवमेंट नहीं होने और सही भाव नहीं मिलने की आशंकाओं से किसान बुवाई के प्रति उदासीन रहे। इसके परिणाम स्वरूप मंडी में काफी कम सब्जियां आ रही हैं।

सब्जियों के भाव

हरी मिर्च 80-100 रुपए किलो, हरा धनिया 250-300, फूल गोभी 60-80, तोरई 50, पत्ता गोभी 40, शिमला मिर्च 80, टमाटर 40, सेम की फली 40, अरबी 30, खीरा 30, नींबू 40, लाैकी 30, भिंडी 30, बैंगन 30, आलू 35 रुपए किलो।

ये भी पढ़ें: 900 पीएसी जवानों के प्रमोशन पर गैरजिम्मेदार निर्णय लेने पर एडीजी पीयूष आनंद हटाए गए

ये भी पढ़ें: गैंगरेप पीड़िता के घर पहुंचे विकास निगम के अध्यक्ष, कहा दोषियों को मिलेगी ऐसी सजा कि उनकी सात पीढ़ियां रखेंगी याद

ये भी पढ़ें: बदलेगी रामनगरी की सूरत, राम मंदिर से चार किलोमीटर की दूरी पर धनुष के आकार की बनेगी नई अयोध्या

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned