scriptWhat is the Taj Mahal controversy | ताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राज | Patrika News

ताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राज

Taj Mahal controversy: ताजमहल को लेकर इन दिनों चर्चाएं तेज हैं। ताज महल को लेकर अलग-अलग प्रतिक्रियाएं दी जा रही है। पिछले कई दिनों से ताज महल के अंदर मौजूद कमरों के सर्वों की मांग हो रही है। कमरों को लेकर कई लोगों की और से अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं। इसी बीच खुद को ताजमहल बनाने वाले कारीगरों का वंशल बताने वाले एक व्यक्ति ने कई दावें किए हैं।

लखनऊ

Updated: May 19, 2022 03:01:33 pm

Taj Mahal controversy. वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे के बाद ताजमहल के सर्वे को लेकर भी चर्चाएं तेज हैं। ताजमहल(Taj Mahal) को लेकर अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं। इसी बीच आगरा में रहने वाले कुछ लोगों ने अपने आपको ताजमहल(Taj Mahal) बनाने वाले कारीगरों का वंशज बताते हुए ताजमहल को लेकर कई टिप्पणियां की है।
taj_mahal.jpg
खुद का बताया वंशज

ताजमहल(Taj Mahal) बनाने वाले कारिगरों को खुद को वंशज बताने वाले ताहिरउद्दीन 80 वर्ष के हैं। इनका दावा है कि इनके पुरखों ने ताजमहल(Taj Mahal) की कारीगिरी की थी। एक न्यूज़ चैनल के साथ बातचीत करते हुए उन्होंने ताजमहल(Taj Mahal) को लेकर कई बातें कहीं हैं। इनके द्वारा बताई जानें वाली बातें हैरान करने वाली हैं। ताहिर उद्दीन ताजमहल के कमरे ताजमहल के कुएं ताजमहल(Taj Mahal) में हिंदू मान्यताओं के चिन्ह सहित तमाम दावे किए हैं। हालांकि, पत्रिका ताहिर उद्दीन द्वारा किए गए दावों की पुष्टि नहीं करता है। ‌
ताहिरउद्दीन के दावे

ताजमहल बनाने वाले कारीगरों के वंशज ने ताजमहल के 20 कमरों को लेकर या बात कही है कि 20 कमरे ठीक कब्र के नीचे हैं। एएसआई इन कमरों का इस्तेमाल स्टोर रूम के तौर पर करता है। पहले इन कमरों का इस्तेमाल ताजमहल देखने आने वाले दर्शकों के जूते चप्पल रखने के लिए किया जाता था। लेकिन जैसे-जैसे ताजमहल देखने आने वालों लोगों की भीड़ बढ़ती गई इन कमरों का इस्तेमाल बंद कर दिया गया। अभी भी बीच-बीच में एएसआई(ASI) इन कमरों को खोलकर साफ सफाई करता है।
ये भी पढ़े: लखनऊ का लक्ष्मण कनेक्शन, क्या बदलेगा अब राजधानी का भी नाम

ताजमहल के 22 कमरों को कभी नहीं खोला गया

कारीगर के वंशज का दावा है कि ताजमहल में स्थित उन 22 कमरों को कभी नहीं खोला गया। इन्ही कमरों को इन दिनों खोले जाने की मांग हो रह है। वंशज का कहना है कि 1993 में कुछ अंग्रेजों ने इन कमरों को देखा था। ऐसा माना जाता है कि एएसआई कोई खतरा नहीं लेना चाहता, लिहाजा इन कमरों को नहीं खोला जा रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra: गृहमंत्री शाह ने महाराष्ट्र के उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच NIA को सौंपी, नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने के बाद हुआ था मर्डरMaharashtra Politics: बीएमसी चुनाव में होगी शिंदे की असली परीक्षा, क्या उद्धव ठाकरे को दे पाएंगे शिकस्त?Single Use Plastic: तिरुपति मंदिर में भुट्टे से बनी थैली में बंट रहा प्रसाद, बाजार में मिलेंगे प्लास्टिक के विकल्पकेरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिलेनूपुर शर्मा विवाद पर हंगामे के बाद ओडिशा विधानसभा स्थगितक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशाना500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.