पूरे प्रदेश में लागू होने जा रहा है नया पुलिसिंग सिस्टम, यूपी पुलिस बोलेगी 'गुड मार्निंग सर'

पूरे प्रदेश में लागू होने जा रहा है नया पुलिसिंग सिस्टम, यूपी पुलिस बोलेगी 'गुड मार्निंग सर'

Hariom Dwivedi | Publish: Aug, 14 2019 01:53:02 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- Good Morning Sir- बांदा पुलिस की तर्ज पर पूरे उत्तर प्रदेश में लागू होगा नया पुलिसिंग सिस्टम
- अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने दिये निर्देश
- जानें- क्या है यूपी पुलिस की गुड मॉर्निंग योजना

लखनऊ. उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) जल्द ही पूरे प्रदेश में गुड मॉर्निंग पुलिसिंग सिस्टम (Good Morning Sir) लागू करने जा रही है। इसका मकसद पुलिस और आम लोगों के बीच बेहतर संवाद स्थापित करना है। बांदा पुलिस ने गुड मॉर्निंग पुलिसिंग सिस्टम को लागू किया था, जिसे अब पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा। रविवार को बांदा, झांसी, जालौन समेत कई जिलों के औचक निरीक्षण के बाद अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी (Avneesh Kumar Awasthi) ने यूपी में गुड मॉर्निंग पुलिसिंग सिस्टम लागू करने की बात कही।

बांदा पुलिस (Banda Police) ने सुबह मॉर्निंग वॉक पर जाने वाले लोगों को सुरक्षा का अहसास कराने के लिए नयी पुलिसिंग स्कीम 'गुड मॉर्निंग सर' शुरू की है। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बांदा पुलिस की गुड मॉर्निंग पुलिसिंग की प्रशंसा करते हुए कहा कि इसे पूरे प्रदेश में लागू करने पर विचार किया जाएगा। इससे जनता और पुलिस के बीच बेहतर संवाद स्थापित होगा।

यह भी पढ़ें : शराब पीकर गाड़ी चलाते पकड़े गये तो 10 हजार रुपए भरना पड़ेगा, सीट बेल्ट न लगाने पर 10 गुना जुर्माना

क्या है 'गुड मॉर्निंग पुलिसिंग सिस्टम'
'गुड मॉर्निंग पुलिसिंग सिस्टम' के तहत बांदा पुलिस रोजाना मॉर्निंग वॉक पर जाने वाले लोगों को रोककर 'गुड मॉर्निंग सर' बोलकर अभिवादन करती है। इससे सुबह टहलने वाले लोगों को सुरक्षा का अहसास होता है और वह निश्चिंत होकर टहलते हैं। साथ ही पुलिस और आम लोगों के बीच झिझक भी कम हो जाती है। रोस्टर के मुताबिक, रोजाना सुबह पुलिसिंग अधिकारी के रूप में चौकी प्रभारी, सब इंस्पेक्टर तथा महिला और पुरुष कांस्टेबल वाहन से शहर में भ्रमण करेंगे और लोगों से गुड मॉर्निंग बोलेंगे। इस टीम का पर्यवेक्षण रोजाना राजपत्रित पुलिस अधिकारी द्वारा किया जाता है। पुलिस वाहन में एक रजिस्टर भी होता है, जिसमें आम लोगों से बातचीत कर उनसे सुझाव भी लिया जाता है। सात माह पूर्व इस योजना को बांदा के पूर्व एसपी गणेश प्रसाद साहा ने शुरू किया था।

यह भी पढ़ें : UP Home Guards के लिए बड़ी खुशखबरी, अब पुलिसवालों के बराबर ही मिलेगा वेतन, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned