..तो अखिलेश के इस बड़े नेता की वजह से चाचा-भतीजे में नहीं हो पा रही एका, शिवपाल यादव ने दिया बड़ा बयान

..तो अखिलेश के इस बड़े नेता की वजह से चाचा-भतीजे में नहीं हो पा रही एका, शिवपाल यादव ने दिया बड़ा बयान
चाचा-भतीजे के रिश्तों पर जमी कड़वाहट की बर्फ पिघलती नजर आ रही है, लेकिन 'षड़यंत्रकारी' ऐसा होने नहीं दे रहे हैं

Hariom Dwivedi | Updated: 23 Sep 2019, 01:00:26 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- समाजवादी पार्टी में कौन है वो षड्यंत्रकारी जो अखिलेश-शिवपाल को एक नहीं होने देना चाहता?
- शिवपाल यादव के बयान के बाद यादव परिवार में षड़यंत्रकारी को लेकर अटकलें तेज
- तो क्या शिवपाल और अखिलेश के बीच जमी कड़वाहट की बर्फ पिघलेगी या सिर्फ उपचुनाव से पहले सियासी दांव?

लखनऊ. चाचा-भतीजे के रिश्तों पर जमी कड़वाहट की बर्फ पिघलती नजर आ रही है, लेकिन 'षड़यंत्रकारी' ऐसा होने नहीं दे रहे हैं। ऐसा कहना है शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) का। उन्होंने कहा कि मेरी तरफ से परिवार में एकता की पूरी-पूरी गुंजाइश है, लेकिन कुछ षड्यंत्रकारी लोग परिवार में एका नहीं होने देना चाह रहे हैं। शिवपाल यादव अखिलेश (Akhilesh Yadav) के उस बयान पर टिप्पणी कर रहे थे, जिसमें उन्होंने कहा था कि परिवार में परिवारवाद नहीं, लोकतंत्र है, जो भी आने चाहे उसे आंख बंद करके ले लेंगे।

बीते दिनों समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने जब दलबदल विरोधी कानून के तहत शिवपाल यादव की विधानसभा सदस्यता (Jasvantnagar MLA Shivpal) रद्द करने की अर्जी दी, तो लगा कि अब परिवार में कभी एका नहीं हो पाएगी। फिर, अखिलेश यादव ने चाचा की पार्टी में वापसी के संकेत दिये तो लगा कि यादव परिवार में अभी भी एका की गुंजाइश बरकार है। हालांकि, शिवपाल यादव ने 'षड़यंत्रकारी' का जिक्र कर सियासी अटकलें बढ़ा दी हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर समाजवादी पार्टी में कौन है षड़यंत्रकारी है जो अखिलेश-शिवपाल को एक नहीं होने देना चाहता है।


यह भी पढ़ें : अखिलेश यादव को एक और बड़ा झटका, बीजेपी में शामिल हुए सपा के यह दिग्गज नेता, इन्हें भाजपा देने जा रही है बड़ी जिम्मेदारी

सामने आ रहा यह नाम
राजनीतिक जानकारों का कहना है कि शिवपाल यादव इशारा शायद सपा महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव (Ramgopal Yadav) की तरफ है। शिवपाल और रामगोपाल की अदावद जगजाहिर है। 2017 के विधानसभा चुनाव के वक्त जब चाचा-भतीजे में वर्चस्व की जंग छिड़ी थी। रामगोपाल भाई के बजाय भतीजे अखिलेश के साथ न केवल खड़े नजर आये थे, बल्कि उनकी मदद अखिलेश सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गये और शिवपाल को पार्टी से बाहर होना पड़ा। नाराज शिवपाल कई बार भरे मंच रामगोपाल यादव पर निशाना साध चुके हैं। इसी नाराजगी के चलते 2019 के लोकसभा चुनाव में फिरोजाबाद सीट से सपा प्रत्याशी रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव के खिलाफ खुद शिवपाल यादव चुनावी मैदान में उतरे थे। शिवपाल के कारण ही भारतीय जनता पार्टी फिरोजाबाद सीट जीतने में सफल रही। अब देखना दिलचस्प होगा कि क्या चाचा-भतीजे अपने-अपने सारे गिले शिकवे भुलाकर फिर से एक हो सकेंगे। और क्या बेटे की शिकायत के बाद सपा में नंबर दो की हैसियत रखने वाले रामगोपाल यादव ऐसा होने देंगे?

यह भी पढ़ें : एक और गठबंधन को तैयार अखिलेश यादव, कहा- 2022 में बनाएंगे 2012 जैसी बहुमत वाली सरकार

...तो सपा के इस बड़े नेता की वजह से अखिलेश-शिवपाल में नहीं हो पा रही एका, शिवपाल ने दिया बड़ा बयान

शिवपाल की घरवापसी पर बोले अखिलेश यादव
शिवपाल यादव को सपा में शामिल करने के सवाल को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी में जो भी आना चाहे आये, आंख बंद करके पार्टी में शामिल कर लेंगे। विधानसभा सदस्यता रद्द की याचिका भी वापस ले लेंगे। कहा कि परिवार में परिवारवाद नहीं, लोकतंत्र है।

शिवपाल ने षड़यंत्रकारियों का किया जिक्र
अखिलेश यादव के बयान के बाद शिवपाल यादव ने कहा कि मेरी तरफ से परिवार में एकता की पूरी-पूरी गुंजाइश है, लेकिन कुछ षड्यंत्रकारी लोग परिवार को एक नहीं होने देना चाह रहे हैं।

यह भी पढ़ें : अखिलेश के लिए आसान नहीं है इन चुनौतियों से पार पाना, कई और नेता छोड़ सकते हैं समाजवादी पार्टी, मायावती भी बढ़ा रहीं टेंशन

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned