जानिए 14 नवंबर को क्यों मानते हैं बाल दिवस, ये हैं खास बातें

आज के दिन बाल दिवस (Children's Day) क्यों मनाया जाता है। क्या है बल दिवस का इतिहास...

By: आकांक्षा सिंह

Published: 14 Nov 2017, 08:53 AM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में जगह जगह आज बाल दिवस मनाया जा रहा है। बच्चों के लिए स्कूलों में स्टॉल लगाई गई हैं। बाल दिवस के उपलक्ष्य में बाँदा जिले के पुलिस लाइन ग्राउंड में 2 दिवसीय बाल मेले का आयोजन किया गया है। इस मेले में तरह-तरह के स्टॉल लगाए गए हैं जिसमें खाने से लेकर के खेलने तक के सारे इंतजाम किया गए हैं। मेले में सभी प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहेंगे। आइये हम आपको बताते हैं की आज के दिन बाल दिवस (Children's Day) क्यों मनाया जाता है। क्या है बल दिवस का इतिहास...

 

क्यों मनाया जाता है बाल दिवस

आज के दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्म हुआ था। आज उनकी जंयती को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में इनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन बच्चों के अधिकार, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरुक किया जाता है। भारत के अलावा बाल दिवस दुनिया भर में अलग अलग तारीखों पर मनाया जाता है। कहा जाता है कि पंडित नेहरू बच्चों से बेहद प्यार करते थे इसलिए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में चुना गया। पंडित नेहरू ने भारत की आजादी के बाद बच्चों की शिक्षा, प्रगति और कल्याण के लिए बहुत काम किया। उन्होंने विभिन्न शैक्षिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी।

 

क्या है बाल दिवस का इतिहास

बाल दिवस की नींव 1925 में रखी गई थी, जिसके बाद 1953 में दुनिया भर में इसे मान्यता मिली। यूएन ने 20 नवबंर को बाल दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की लेकिन यह अन्य देशों में अलग-अलग दिन मनाया जाता है। कुछ देशों में आज भी 20 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है। 1950 से कई देशों में बाल संरक्षण दिवस (1 जून) पर ही बाल दिवस मनाया जाता है। यह दिन बच्चों के बेहतर भविष्य और उनकी मूल जरूरतों को पूरा करने की याद दिलाता है।

 

बच्चे हैं देश का भविष्य

पंडित जवाहर लाल नेहरु बच्चों को देश के भविष्य की तरह देखते थे। पंडित नेहरु अपना अधिकतम समय बच्चों के साथ बिताना पसंद करते थे, वो हमेशा बच्चों के प्रति अपना लगाव जाहिर करते थे। भारत के आजाद होने के बाद 500 देसी रियासतों को एक झंडे के नीचे लाने से लेकर देश के युवाओं के लिए रोजगार आदि जैसे कार्य कर आधुनिक भारत के निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। आयोग का गठन करने के बाद पंचवर्षीय योजनाओं का शुभारंभ किया, जिससे भारत में उद्योग का एक नया युग शुरु हुआ। नेहरु ने भारत की विदेश नीति में भी प्रमुख भूमिका निभाई।

 

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned