त्वरित टिप्पणी- भाई और भतीजे पर नहीं कर्मठ कार्यकर्ताओं पर मायावती ने क्यों जताया विश्वास ???


बसपा का आपरेशन उप चुनाव

By: Anil Ankur

Published: 05 Sep 2019, 01:13 PM IST

लखनऊ. गुरूवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने पदाधिकारियों की बैठक के बाद फैसला लिया और तीन पुराने कार्यकर्ताओं को चुनावी तैयारी की जिम्मेदारी सौंप दी। ऐसा करके मायावती ने यह साफ किया है कि वे अपने भाई आनंद और भतीजे आकाश आनंद से ज्यादा पुराने बफादार कार्यकर्ताओं पर विश्वास करती हैं।

उल्लेखनीय है कि जब मायावती बीते दो महीने पहले पार्टी में अपने भाई आनंद और भतीजे आकाश आनंद को जिम्मेदारी दी थी तो उन पर भी भाई भतीजा वाद करने का आरोप लगा था। विपक्ष ने उन्हें घेरने की कोशिश की थी कि दूसरे दलों पर भाई भतीजावाद का आरोप लगाने वाली मायावती भी अब इस आरोप से दूर नहीं रह गई हैं। वहीं बसपा कार्यकर्ता इस मसले पर चुप्पी साधे हुए थे।

बताते चलें कि बहुजन समाज पार्टी उपचुनाव के सहारे वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव का रास्ता तैयार करने की तैयारी में जुट गई है। इसके तहत बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक की। बैठक में सभी जिलों के जिला अध्यक्ष, विधानसभा अध्यक्ष, पूर्व सांसद, विधायक व सभी पदाधिकारी बुलाए। बैठक में अहम फैसला लेते हुए पूरे संगठन में बड़ा फेरबदल किया है। उत्तर प्रदेश में तीन कोऑर्डिनेटर मुनकाद अली, आर एस कुशवाहा, भीमराव अंबेडकर नियुक्त किए गए है। ये तीन कोऑर्डिनेटर पूरा प्रदेश का दौरा करेंगे। इसके साथ ही बैठक में उप चुनाव जीतने और पार्टी को मजबूत करने के लिए बसपा सुप्रीमो ने मंत्र दिया।

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned