योगी सरकार में पहली बार होने जा रहा है यह काम, आजादी के बाद से अब तक यूपी में कभी ऐसा नहीं हुआ

yogi cabinet meeting : जब से यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी है उसके बाद से ही ऐसी बात उठी थी।

By: Ashish Shukla

Published: 19 Jan 2019, 08:09 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में जब से बीजेपी की सरकार आई है, उसके बाद से इसने कई फैसले लिए है। अब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ऐसा फैसला लिया है जो आज तक किसी सरकार ने नहीं लिया। सरकार यूपी में चाहे कांग्रेस की रही हो या समाजवादी पार्टी की या फिर बसपा की। किसी ने ऐसा निर्णय लिया जो यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने लिया है।
योगी सरकार प्रयागराज कुंभ में कैबिनेट की बैठक बुलाने की तैयारी कर रही है। जब से यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी है उसके बाद से ही ऐसी बात उठी थी कि प्रयागराज में कैबिनेट की बैठक होगी। लेकिन सरकार के डेढ़ साल से अधिक समय का कार्यकाल पूरा होने के बाद भी ऐसा नहीं हो सका। लेकिन अब जब कि प्रयागराज में कुंभ का आयोजन हो रहा है तो सरकार ने भी यह तय किया है कि कैबिनेट की बैठक यहां होगी।

इसलिए शुक्रवार को आयोजित की गई
ऐसा पहली बार होगा जब यूपी कैबिनेट की बैठक राजधानी लखनऊ में न होकर राजधानी से बाहर किसी शहर में होगी। वैसे आमतौर पर कैबिनेट की बैठक हर मंगलवार को लखनऊ में ही होती है और होती आ रही है। लेकिन पिछली बार सीएम योगी आदित्यनाथ मंगलवार को गोरखपुर में थे, इसलिए कैबिनेट की बैठक टाल दी गई थी। कैबिनेट की मीटिंग बाद में शुक्रवार को आयोजित की गई।

29 जनवरी को प्रयागराज में होगी
इस बार भी Yogi cabinet की बैठक मंगलवार को नहीं होगी। बैठक इसलिए नहीं हो पाएगी क्यों कि पीएम नरेंद्र मोदी मंगलवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में होंगे और सीएम योगी आदित्यनाथ स्वयं वाराणसी में रहेंगे तो ऐसे में कैबिनेट बैठक को टाल दिया गया है। इसके बाद जो कैबिनेट की बैठक होगी वह प्रयागराज कुंभ में होगी। जानकारी के मुताबिक कैबिनेट की यह बैठक 29 जनवरी को प्रयागराज में होगी। कैबिनेट बैठक में इस बार धर्म और संस्कृति से जुड़े प्रस्ताव पास किए जा सकते हैं।

इन चार जगहों पर लगता है कुंभ का मेला
दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और धार्मिक मेले कुंभ की शुरुआत 15 जनवरी को हो चुकी है। इस धार्मिक मेले का आगाज मकर संक्रांति के मौके पर शाही स्नान के साथ हुआ। यह कुंभ मेला आगामी 4 मार्च तक चलेगा। इस कुंभ मेले में इस बार 15 करोड़ लोगों के आने का अनुमान है। कुंभी 2019 अर्ध कुंभ है जो हर छह साल पर होता है। जबकि महाकुंभ का आयोजन बारह साल पर होता है। भारत में उज्जैन, प्रयाग, नासिक और हरिद्वार इन चार जगहों पर कुंभ का आयोजन किया जाता है।
अर्ध कुंभ मेले के लिए यूपी की योगी सरकार ने 4236 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं जो 2013 के महाकुंभ के बजट का तीन गुना है। यह अर्ध कुंभ अब तक का सबसे महंगा कुंभ है।

PM Narendra Modi
Show More
Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned