यूपी का चुनावी रोड मैप, अगले 6 महीने में योगी सरकार बनाएगी दस हजार किमी पक्की सड़क, इन प्रोजेक्ट्स को भी करेगी पूरा

- UP Assembly election 2022

- छह माह तक हर महीने उद्घाटन और शिलान्यास को यूपी आएंगे राष्ट्रपति, पीएम और गृहमंत्री अमित शाह

- परियोजनाओं की कमी पूरा करने को जारी होंगे धड़ाधड़ बजट

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में हाल ही में संपन्न हुए पंचायत चुनावों में शानदार जीत के बाद अब भारतीय जनता पार्टी का फोकस विधानसभा चुनाव (UP Assembly election 2022) पर है। इसी को देखते हुए बीजेपी ने ग्रामीण इलाकों में सड़कों के निर्माण में तेजी लाने का खाका तैयार किया है। अगले 6 महीने में केंद्र की मदद से योगी सरकार प्रदेश में दस हजार किमी पक्की सड़क बनाने जा रही है। जानकारी के मुताबिक यूपी ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण जल्द ही केंद्र को ग्रामीण क्षेत्रों में 10,000 किलोमीटर सड़क बनाने के प्रस्ताव को भेजेगा। इस परियोजना को केंद्र की प्रमुख पीएम ग्रामीण सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के तहत लागू करने का प्रस्ताव है। इसके साथ ही योगी सरकार उन परियोजनाओं पर फोकस बढ़ाने जा रही है, जो अगले छह महीने में पूरी हो रही हैं। इन परियोजनाओं के लिये योगी सरकार धड़ाधड़ बजट भी जारी करने जा रही है। साथ ही अगले छह महीने तक हर महीने उद्घाटन और शिलान्यास के लिए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और गृहमंत्री अमित शाह यूपी आ सकते हैं। यानी प्रदेश सरकार विधानसभा चुनाव से पहले उद्घाटन और शिलान्यास के जरिये माहौल बनाने की योजना है।

योगी सरकार बनाएगी 10 हजार किमी पक्की सड़क

राज्य सरकार ग्रामीण बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के लिए विभिन्न योजनाएं तैयार कर रही है। भाजपा संगठन के साथ-साथ राज्य सरकार के माध्यम से भी अपनी ग्रामीण पहुंच बढ़ा रही है। इसीलिये सरकार का विधानसभा चुनाव के ऐलान से पहले ग्रामीण क्षेत्रों में सड़क संपर्क मार्गों को पूरा कराने पर विशेष जोर है। यूपीआरआरडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने बताया कि वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पीएमजीएसवाई फेज-3 के तहत केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा जाएगा। हम ग्रामीण क्षेत्रों में 10,000 किलोमीटर सड़कों के निर्माण और सुधार के लिए केंद्र को एक नया प्रस्ताव भेजने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने बताया कि यूपी में पहले से ही 6500 किमी से अधिक सड़कों के निर्माण की प्रक्रिया चल रही है। प्रदेश सरकार उन परियोजनाओं पर भी फोकस बढ़ाने जा रही है, जो अगले 6 महीने में पूरे हो रहे हैं। विधानसभा चुनाव की घोषणा से पहले दिसंबर तक इन परियोजनाओं को पूरा करवा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह या मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उद्घाटन कराने की तैयारी है। अब चुनाव तक पूरे हो रहे प्रोजेक्ट के उद्घाटन और लोगों की मांग से जुड़े नए प्रोजेक्ट के शिलान्यास के जरिए सरकार की माहौल बनाने की योजना है।

अगले 6 महीने में पूरे होने वाले प्रोजेक्टों पर जोर

सूत्रों के मुताबिक सरकारी अमले को जनवरी 2022 में विधानसभा चुनाव के संभावित ऐलान को ध्यान में रखकर तैयारी का संकेत दिया गया है। निर्माण प्रोजेक्ट से जुड़े विभागों से पूछा गया है कि आने वाले दो, चार और छह महीने में कौन-कौन से प्रोजेक्ट पूरे हो सकते हैं। ऐसे प्रोजेक्ट के लिए बजट की क्या आवश्यकता है और कहीं बजट की कोई कमी तो नहीं है। यह सूचनाएं आने के बाद अगर किसी प्रोजेक्ट के लिए बजट की कमी सामने आती है, तो प्राथमिकता पर बजट की व्यवस्था कराई जाएगी। जिससे कार्य समय पर पूरा हो सके। जैसे-जैसे प्रोजेक्ट पूरे होंगे कार्यक्रम तय कर उसका उद्घाटन कराया जाएगा। इसके अलावा जिन महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट को शुरू करने से पहले की कार्रवाई चल रही है, लेकिन उसे चुनाव से पहले पूरा नहीं हो पाना है। उसे अगले कार्यकाल में पूरा कराने का संकल्प जताया जाएगा।

राष्ट्रपति, पीएम और गृह मंत्री करेंगे उद्घाटन

आने वाले दिनों में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के कार्यक्रम प्रदेश में बढ़ने वाले हैं। पिछले दिनों राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कानपुर और लखनऊ की ट्रेन से यात्रा कर सियासी गलियारों में हलचल बढ़ा दी थी। बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अगली यात्रा भी तय हो रही है। उन्हें जल्दी ही गोरखपुर आमंत्रित कर आयुष विश्वविद्यालय का शिलान्यास कराने की योजना है। इसी महीने वाराणसी में हजारों करोड़ों के प्रोजेक्ट का उद्घाटन और शिलान्यास करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 30 जुलाई को सिद्धार्थनगर आने का कार्यक्रम तय हो गया है। वह यहां 9 मेडिकल कॉलेजों का लोकार्पण करेंगे। इसी महीने गृह मंत्री अमित शाह लखनऊ में पुलिस फॉरेंसिक इंस्टीट्यूट का उद्घाटन करने भी आ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी में 30 जुलाई को बनेगा इतिहास, एक साथ नौ मेडिकल कालेजों का लोकार्पण करेंगे पीएम मोदी

इन प्रोजेक्ट पर खास फोकस

विधानसभा चुनाव से पहले गोरखपुर में फर्टिलाइजर कारखाना, एम्स और लखनऊ से गाजीपुर तक पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन कराने की योजना है। इनके काम अंतिम चरण में है। नोएडा में जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास से पहले की सभी औपचारिकताएं 15 अगस्त तक पूरी हो जाएगी। इसी तरह प्रयागराज से मेरठ तक गंगा एक्सप्रेस वे के भूमि अधिग्रहण का काम भी तेजी से चल रहा है। इन दोनों ही प्रोजेक्ट का शिलान्यास बड़े स्तर पर कराने का प्रस्ताव है। कानपुर में मेट्रो के प्राथमिक सेक्शन का काम चल रहा है। रणनीतिकार चाहते हैं कि जिस तरह सपा सरकार ने चुनाव से पहले प्राथमिक सेक्शन पर लखनऊ मेट्रो को हरी झंडी दिखाई थी, वैसे ही यह सरकार कानपुर के प्राथमिक सेक्शन का काम पूरा करवा कर चुनाव से पहले हरी झंडी दिखाए।इसी तरह कई अन्य प्रोजेक्ट भी चिन्हित किए जा रहे हैं। जो दिसंबर तक पूरे हो सकते हैं। इन प्रोजेक्ट के उद्घाटन और शिलान्यास के सहारे यूपी सरकार चुनाव से पहले पूरी तरह से चुनावी माहौल तैयार करना चाहती है।

यह भी पढ़ें: Electricity Department App: बिजली विभाग के इस ऐप पर अब घर बैठे मिलेंगी ये सुविधाएं, जानें आपके लिये जरूरी खबर

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned