यूपी की पुलिस अपराधियों की तरह काम कर रही है- संजय सिंह

संजय सिंह की घेराबंदी के लिए पुलिस है मगर बहन-बेटियों की सुरक्षा के लिए उपलब्ध नहीं है

By: Ritesh Singh

Published: 07 Sep 2020, 07:20 PM IST

लखनऊ , राज्यसभा सांसद एवं आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा की यूपी में योगी राज में जंगलराज बढ़ता ही जा रहा है और इसी जंगलराज ने एक ईमानदार नेता और 3 बार के विधायक निर्वेन्द्र मिश्रा की जान ले ली। संजय सिंह ने कहा कि जिस प्रदेश में लोकप्रिय नेता और तीन बार विधायक रह चुके व्यक्ति की दिन दहाड़े हत्या कर दी जाए वो भी पुलिस के सामने, ऐसी घटना योगी राज की जर्जर और तार- तार हो चुकी कानून व्यवस्था को उजागर करती है।

उन्होंने कहा कि पुलिस के सामने विधायक की लाठी डंडों से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई और इस मामले में सीओ की भूमिका संदिग्ध है जब गांव वालों ने हत्यारों को पकड़ लिया तो सीओ ने जाकर उन हत्यारों को छुड़ा लिया और विधायक की पत्नी, बहू और बेटे से मारपीट की , इस तरह का घिनौना काम यूपी की पुलिस कर रही है। संजय सिंह ने कहा कि यूपी की पुलिस अपराधियों की तरह काम कर रही है जब मैं विधायक के परिवार से मिलकर वापस लौट रहा था तो सीतापुर के अटरिया में मेरे पीछे पुलिस लगा दी गई, मेरी गाड़ी में एक इंस्पेक्टर बैठा दिया गया और एक गेस्ट हाउस में ले जाकर रोक दिया गया।

संजय सिंह ने कहा कि मुझे गैर कानूनी तरीके से हिरासत में लिया गया मेरे साथ बदसलूकी की गई और तो और मेरे घर पर पुलिस भेजी गई, मेरी पत्नी को फ़ोन करके एक पुलिस अधिकारी ने धमकाने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि योगी जी माफिया जगत के भी कुछ नियम कायदे होते हैं वे लोग भी एक दूसरे के परिवार के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं करते हैं, परिवार को परेशान नही करते हैं मगर आपका और आपकी सरकार का मानसिकता का स्तर माफियाओं से भी ज्यादा गिरा हुआ है। उन्होंने कहा कि यूपी में लगातार ब्राह्मणों, दलितों और पिछड़ों की हत्याएं हो रही है उनके साथ अत्याचार हो रहा है और जब मै इस मामले को उठाता हूं तो योगी सरकार मेरे खिलाफ 12 मुकदमे दर्ज करवा देती है, मेरा कार्यालय बंद करवा देती है मुझे नोटिस भेज कर धमकी देती हैं।

उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ये मांग करती है कि भूतपूर्व विधायक निर्वेन्द्र मिश्रा की हत्या प्रकरण में पीड़ित परिवार को न्याय मिले , इस मामले की उच्च स्तरीय जांच हो , उस संदिग्ध सीओ के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज होना चाहिए और परिवार को 1 करोड़ रुपए की सहयोग राशि मुआवजा के तौर पर दिया जाना चाहिए।

पीड़ित परिवार अभी तक न्याय से वंचित- दिलीप पांडेय

दिलीप पांडेय ने कहा की इस हत्या के प्रकरण का एक पक्ष यह है की निर्वेन्द्र मिश्रा जी का परिवार अभी तक न्याय से वंचित और दूसरा पक्ष यह है की इस प्रकरण ने उत्तर प्रदेश में कानून व्यस्था का जो सच है उसको सबसे सामने नंगा कर दिया है।

उन्होंने आगे कहा कि जब लोक तंत्र के सबसे बड़े मंदिर का एक सदस्य और राज्य सभा के एक सांसद को जब आधी रात को उत्तर प्रदेश की पुलिस द्वारा हिरासत में ले लिया जाता है बिना कोई कारण बताये तो दलितों और पिछडो का एनकाउंटर हो जाना उनको थानों में पीट -पीट के मार दिए जाना जैसी जघन्य घटनाओ का इस व्यवस्था में होना आश्चर्यचकित नहीं करता है

आम आदमी पार्टी आंदोलन से निकली पार्टी हैं हम योगी सरकार से डरने वाले नही हैं- सभाजीत सिंह

प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने कहा कि हम लोग जब योगी सरकार की नाकामियां गिनवा रहे हैं उनके अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं तो यूपी की पुलिस हमारे साथ बत्तमीजी कर रही है. आम आदमी पार्टी आंदोलन से निकली पार्टी है और हम आपसे डरने वाले नही हैं आपकी तानाशाही और जंगलराज के खिलाफ लगातार मजबूती से आवाज उठाते रहेंगे. आप की नाकामियों को लेकर हम प्रदेश के घर-घर जायेंगे और बताएंगे कि आप के राज में ना ब्राम्हण सुरक्षित,ना दलित और ना ही आम आदमी सुरक्षित है |

Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned