scriptYogi Police Custody death cases increased in UP | पुलिस कस्टडी में युवकों की मौत के बाद घिरी योगी की पुलिस, इन सवालों के कौन देगा जवाब | Patrika News

पुलिस कस्टडी में युवकों की मौत के बाद घिरी योगी की पुलिस, इन सवालों के कौन देगा जवाब

पुलिस ने यह बयान दिया था की अल्ताफ को लड़की भगाने के आरोपों में हिरासत में लिया गया था लेकिन जनरल डायरी में अल्ताफ की हिरासत की एंट्री नहीं मिली, पुलिस ने एंट्री क्यों नहीं की इसका जवाब पुलिस के पास नहीं हैं।

लखनऊ

Published: November 19, 2021 04:55:25 pm

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कासगंज और फिर कानपुर में युवक की पुलिस कस्टडी में मौत से योगी की पुलिस घिरती जा रही है। दोनों युवकों की मौत के मामले में पुलिस ने जो बयान दिए हैं वो किसी के गले से नहीं उतर रहे हैं। घटना के जुड़े तमाम सवालें के जवाब पुलिस नहीं दे पा रही है। प्रदेश में पुलिस कस्टडी में मौत का ये पहला मामला नहीं है। आंकड़ों की बात करें पिछले दो दशक में यूपी में 1888 लोगों की पुलिस कस्टडी में मौत हई है। इन मौत के बाद 893 पुलिस कर्मचारियों पर केस दर्ज किए गए हालांकि सिर्फ 26 पुलिस कर्मचारियों को सजा हुई है।
kasganj.jpg
कासगंज में पुलिस कस्टडी में अल्ताफ की मौत के बाद पुलिस ने जो बयान दिए हैं वो गले नहीं उतर रहे हैं। कानपुर में चोरी के आरोप में हिरासत में लिए गए जितेंद्र की मौत से भी पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं।
अभी भी जिंदा हैं ये सवाल

-कासगंज की घटना पर एसपी रोहन बोत्रे ने बयान दिया था कि अल्ताफ ने थाने के टॉयलेट में तीन फुट के नल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, लेकिन सवाल ये है कि तीन फिट के नल से कोई कैसे फांसी लगा सकता है। पुलिस के पास इसका जवाब नहीं है।
-पुलिस ने यह बयान दिया था कि अल्ताफ को लड़की भगाने के आरोपों में हिरासत में लिया गया था लेकिन जनरल डायरी में अल्ताफ की हिरासत की एंट्री नहीं मिली, पुलिस ने एंट्री क्यों नहीं की इसका जवाब पुलिस के पास नहीं हैं।
-अल्ताफ को जब थाने पर लाया गया तबतक एफआईआर नहीं लिखी गई थी, अल्ताफ की मौत के बाद पुलिस ने लड़की भगाने का मुकदमा क्यों दर्ज किया। पुलिस के पास इस सवाल का जवाब भी नहीं है।
-अल्ताफ के पिता ने पुलिस कर्मचारी के नाम से एसएसपी को शिकायत की थी तो फिर पुलिस ने अज्ञात पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ f.i.r. क्यों दर्ज की, पुलिस इस सवाल की जवाब भी नहीं दे पा रही है।
-पुलिस ने अल्ताफ के पिता चांद के आरोपों का खंडन करने के लिए एक पत्र जारी किया था जिसमें चांद ने अल्ताफ की आत्महत्या की बात कहीं थी , पर बाद में चांद ने कहा कि पुलिस के दबाव में उन्होंने पत्र मे अंगूठा लगाया था। पुलिस जवाब नहीं दे पा रही है कि उसने ऐसा क्यों किया।
शिकायत करने वाले पर ही दर्ज किया हत्या का मुकदमा

पुलिस की बर्बरता ने कानपुर में एक और युवक की जान ले ली। चोरी के शक में हिरासत में लिए गए जितेंद्र श्रीवास्तव उर्फ कल्लू को कल्याणपुर पुलिस ने इस कदर पीटा कि उसकी तबीयत बिगड़ गई। तबीयत बिगड़ी तो आनन-फानन में पुलिस वालों ने जितेंद्र को थाने पर बुला कर परिजनों के हवाले कर दिया। घर पहुंचने पर जितेन की तबीयत और बिगड़ गई। घरवाले जितेन को अस्पताल लेकर लेकिन रास्ते में ही जितेन्द्र की मौत हो गई। परिजनों ने पुलिस पर जितेन्द्र की पिटाई करने का आरोप लगाया है परिजनों का मानना है कि पुलिस की पिटाई से ही जितेन्द्र की मौत हुई है। वहीं दूसरी ओर पुलिस ने जितेंद्र पर चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराने वाले शिकायतकर्ता पर ही हत्या की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, ओमिक्रॉन केस 10 हजार पारSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणनेताजी की जयंती अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाएगी, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलिदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासUP TET Exam 2021 : बारिश पर भारी अभ्यर्थियोंं का उत्साह, कड़ी सुरक्षा में शुरू हुई TET परीक्षाAjmer Urs : 1 फरवरी को उतरेगा संदल, 2 को खुलेगा जन्नती दरवाजाUP Top News: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षक पात्रता परीक्षा आज, दो पालियों में परीक्षा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.