शिवरात्रि के मौके पर मुख्यमंत्री योगी नाथ ने भगवान शंकर के लिए कह दी ये बड़ी बात

महाशिवरात्रि के पर्व पर पूरे प्रदेश के शिवालयों मं· उत्सव का माहौल होता है

By: Anil Ankur

Updated: 03 Mar 2019, 08:04 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रयागराज कुम्भ-2019 के प्रमुख स्नान पर्व महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर प्रदेशवासियों, कुम्भ में स्नान हेतु देश-विदेश से पधारे संत-महात्माओं एवं श्रद्धालुओं को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि महाशिवरात्रि का पावन पर्व अन्धकार तथा अन्याय पर नियंत्रण पाने का प्रतीक है। शिव योग में आध्यात्मिक चिन्तन और बौद्धिक कार्य करना भी शुभ माना जाता है। यह पर्व हमें लोक कल्याण के लिए प्रतिबद्ध होने की प्रेरणा प्रदान करता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पर्व बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। काशी विश्वनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर प्राचीन काल से वाराणसी में स्थित है। विश्वनाथ मंदिर का सनातन धर्म में एक विशिष्ट स्थान है। ऐसा माना जाता है कि एक बार इस मंदिर के दर्शन करने और पवित्र गंगा में स्नान कर लेने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

महाशिवरात्रि की मध्य रात्रि में प्रमुख मंदिरों से भव्य शोभा यात्रा ढोल-नगाड़े इत्यादि के साथ बाबा विश्वनाथ जी के मंदिर तक जाती है। महाशिवरात्रि के पर्व पर पूरे प्रदेश के शिवालयों मंे उत्सव का माहौल होता है। श्रद्धालु शिव भक्ति के लिए सुबह से ही मन्दिरों में पहुंचकर पूजा-अर्चना करते हैं। पूरा वातावरण शिवमय हो जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्व एवं त्योहार हमारी परम्परा और राष्ट्रीयता को मजबूती प्रदान करने का अवसर प्रदान करते हैं। महाशिवरात्रि का पर्व सृष्टि के प्रारम्भ का दिन माना जाता है। पूरे देश में महाशिवरात्रि के दिन भगवान शंकर तथा माँ पार्वती का विशेष पूजन किया जाता है।

 

मुख्यमंत्री ने अखाड़ों और उनसे संबंधित सभी आचार्य महामण्डलेश्वरों, महामण्डलेश्वरों, महंतों और संतों को महाशिवरात्रि के अवसर पर प्रयागराज कुम्भ में सम्पन्न होने वाले प्रमुख स्नान की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि समाज को सही दिशा प्रदान करने में आप सभी की महत्वपूर्ण भूमिका है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि महाशिवरात्रि स्नान पर्व को सुचारु ढंग से सम्पन्न कराने के लिए प्रदेश सरकार ने सभी आवश्यक प्रबन्ध किये हैं। यह स्नान समयबद्ध एवं सुव्यवस्थित ढंग से सम्पन्न हो, इसके लिए मेला प्रशासन सहित सभी सम्बन्धितों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। श्रद्धालुओं की सुविधा, सुरक्षा एवं उनके प्रवास आदि की सभी व्यवस्थाएं की गयी हैं।

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned