योगी सरकार का बड़ा फैसला, वक्फ बोर्ड के छह सदस्यों को हटाया

योगी सरकार का बड़ा फैसला, वक्फ बोर्ड के छह सदस्यों को हटाया

Shatrudhan Gupta | Publish: Jun, 17 2017 04:59:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बोर्ड के छह नामित सदस्यों को हटाने का फरमान जारी कर दिया। मालूम हो कि शिया वक्फ  बोर्ड में 10 सदस्य हैं। इनमें से छह सदस्य अखिलेश यादव सरकार ने नामित किए थे। 

लखनऊ. शिया व सुन्नी वक्फ  बोर्ड को भंग करने की योगी सरकार की मंशा अब धीरे-धीरे परवान चढऩे लगी है। शिया व सुन्नी वक्फ  बोर्ड में घोटालों की सीबीआई जांच की सिफारिश करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बोर्ड के छह नामित सदस्यों को हटाने का फरमान जारी कर दिया। मालूम हो कि शिया वक्फ  बोर्ड में 10 सदस्य हैं। इनमें से छह सदस्य अखिलेश यादव सरकार ने नामित किए थे। इन्हीं छह सदस्यों को प्रदेश की भाजपा सरकार ने हटा दिया है।

इन्हें योगी सरकार ने हटाया
योगी सरकार ने जिन्हें हटाया है, उनमें कौशांबी निवासी पूर्व राज्यसभा सदस्य अख्तर हसन रिजवी, मुरादाबाद के सैयद वली हैदर, मुजफ्फरनगर की अफशां जैदी, बरेली के सैयद आजिम हुसैन जैदी, शासन में विशेष सचिव नजमुल हसन रिजवी तथा आलिमा जैदी शामिल हैं। इन सदस्यों को मई 2015 में नामित किया गया था। इसके पहले राज्य सरकार ने शिया-सुन्नी वक्फ  बोर्डों में भ्रष्टाचार की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की थी। 

करोड़ों के घोटाले और अनियमितता का आरोप
विभाग ने दोनों बोर्ड के अध्यक्षों पर वक्फ  संपत्तियों में करोड़ों रुपए के घोटाले और अनियमितता का आरोप लगाया था। मालूम हो कि पिछले दिनों अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पिछली सरकार के कार्यकाल में शिया एवं सुन्नी वक्फ  बोर्ड में हजारों करोड़ रुपए के घोटाले हुए। लिहाजा सरकार ने शिया और सुन्नी वक्फ  बोर्ड के घोटालों की सीबीआई जांच के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को पत्र लिखा है।

मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार को भी हटाया
वहीं, मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने बड़ा फैसला लेते हुए मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार को भी हटा दिया है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल वक्फ  काउंसिल सीडब्ल्यूसी की जांच में दोनों चेयरमैन समेत पूर्व मंत्री आजम खान का भी नाम घोटाले में सामने आया है। इस संबंध में सीबीआई जांच के लिए वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख चुके हैं और सीएम ने इसे केंद्र सरकार को भी भेज दिया है। 

मंत्री मोहसिन रजा के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं 
मालूम हो कि कुछ दिनों पहले शिया वक्फ  बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी द्वारा हज राज्य मंत्री मोहसिन रजा के खिलाफ लगाए आरोपों पर लक्ष्मी नारायण बोले कि ये आरोप पूरी तरह बेबुनियाद हैं। मंत्री मोहसिन रजा के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला है, इसलिए जांच की बात नहीं बनती।

Ad Block is Banned