घर लौटे 20 लाख लोगों को रोजगार देगी योगी आदित्यनाथ सरकार, कम से कम मिलेंगे 15000 रुपये प्रतिमाह

- देश के तमाम राज्यों से लौट रहे 20 लाख प्रवासी कामगारों को रोजगार देगी योगी सरकार
- क्वारंटाइन सेंटर्स में रखे गये श्रमिकों की कार्यकुशलता का डेटा तैयार करने के दिये निर्देश
- महिला-पुरुष प्रवासियों को योग्यता के आधार पर विभिन्न क्षेत्रों में मिलेगा काम

By: Hariom Dwivedi

Updated: 10 May 2020, 06:16 PM IST

लखनऊ. लॉकडाउन के चलते उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार देश के तमाम राज्यों से लौट रहे 20 लाख प्रवासी कामगारों को रोजगार दिलाएगी। साथ ही सभी को कम से कम 15 हजार की सैलरी की गारंटी दी जाएगी और उनके काम के घंटे और सुरक्षा भी सुनिश्चित होंगे। राज्य सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया कि गांवों और छोटे शहरों में लेबर रिफॉर्म्स (मजदूरी सुधार) के जरिए 20 लाख प्रवासी मजदूरों को नौकरी देने की नीति तैयार की जा रही है। इसके लिए अफसरों निर्देश दिये गये हैं कि क्वारंटाइन सेंटर्स में रखे गये श्रमिकों की कार्यकुशलता का डेटा तैयार करें। इस आधार पर सभी को रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा।

देश भर से यूपी में लौटे कामगारों की भर्ती नये उद्यमों के साथ पुरानी यूनिट्स में भी की जाएगी। काबिलियत के हिसाब से उन्हें रेडिमेट गारमेंट इंडस्ट्री के साथ परफ्यूम, अगरबत्ती, कृषि उत्पादों, फूड पैकेजिंग, गाय संबंधी उत्पाद, फूल से जुड़े उत्पाद, खाद और फर्टिलाइजर के व्यापार जोड़ा जाएगा। एकीकृत बागवानी मिशन के तहत मधुमक्खी पालन, मशरूम की खेती, संरक्षित खेती, पैक हाउस, राइपनिंग चैंम्बर, प्याज भंडार गृह, रेफर वैन सिस्टम आदि के कार्य प्रवासियों को दिए जाएंगे। युवाओं को रोजपरक प्रशिक्षण देना भी इसी योजना में शामिल है। राज्य सरकार के निर्देश के बाद इसकी तैयारियां तेज हो गई हैं। इसके अलावा स्वयं सहायता समूह की मदद से महिला कामगरों को भी नौकरियां दी जाएंगी। सरकार का मानना है कि उत्तर प्रदेश का लघु और मध्य उद्यम चीन, बांग्लादेश और वियतनाम जैसे देशों से बेहतर है।

खादी ग्रामोद्योग एवं सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के प्रमुख नवनीत सहगल ने बताया कि श्रम कानून में छूट के बाद अब नये छोटे और मध्यम उद्योग आसानी से बनेंगे। इसके बाद यूपी में जो नये अवसर बनेंगे, उनसे कम से कम पांच लाख नौकरियां पैदा होंगी। उन्होंने कहा कि एक जिला, एक उत्पाद की योजना के तहत उद्यमियों को लोन दिए जाएंगे। उम्मीद है कि हर एक उद्यमी अपने साथ कम से कम चार से पांच लोगों को नौकरी पर रखेगा। इसी तरह खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में 30 हजार लोगों को रोजगार देने का रोडमैप तैयार किया गया है।

सीएम ने दिया निर्देश
उत्तर प्रदेश में आ रहे प्रवासी मजूदरों की बड़ी संख्या को देखते हुए 20 लाख को रोजगार देने की कार्ययोजना बनाई जाये। महिला स्वयं सहायता समूहों को रेडीमेड कपड़े, स्वेटर आदि तैयार करने के लिए प्रशिक्षित किया जाए।- योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश

एक लाख से अधिक लोग यूपी में आये
अब तक 114 ट्रेनों के जरिए लगभग 1.2 लाख से अधिक लोगों की वापसी कराई गई है। यूपी में रोजाना 40 ट्रेनों को लाने की व्यवस्था की गई है। प्रवासियों को लाने के लिए 98 और ट्रेनें जल्द ही चलाई जाएंगी।- अवनीश अवस्थी, अपर मुख्य सचिव गृह

COVID-19
Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned