पानी की तलाश में हाईवे पर निकला भालू, तेज रफ्तार वाहन ने लिया चपेट में, मौत

भालू पटेवा स्थित छछान पहाड़ी के जंगल से निकलकर सडक़ पार कर रहा था। उसी दौरान भालू को अज्ञात वाहन ने अपनी चपेट में ले लिया

महासमुंद. पटेवा शासकीय अस्ताल के सामने एनएच-५३ पर अज्ञात वाहन की टक्कर से एक भालू की मौत हो गई। राहगीरों ने वन विभाग के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। इसके बाद वन विभाग की टीम ने भालू के शव को गाड़ाघाट नर्सरी लाया और पोस्टमॉर्टम कर उसका अंतिम संस्कार किया।

सडक़ पार करते समय हुआ हादसा
डीएफओ आलोक तिवारी ने बताया कि घटना बुधवार देर रात की है। भालू पटेवा स्थित छछान पहाड़ी के जंगल से निकलकर सडक़ पार कर रहा था। उसी दौरान भालू को अज्ञात वाहन ने अपनी चपेट में ले लिया, इससे उसकी मौत हो गई। उन्होंने बताया कि मृत भालू मादा थी, जिसकी उम्र लगभग 3-4 वर्ष है। ज्ञात हो कि जंगल में पानी और भोजन की पर्याप्त व्यवस्था न होने से ग्रीष्मकाल प्रारंभ होने के साथ ही वन्यप्राणी शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों की ओर रूख करते हैं जिससे उनकी जान को खतरा होता है, या वें आम जनजीवन के लिए खतरा बन जाते हैं। पिछले साल भी ऐसी कई घटनाएं सामने आई थी। पिछले एक साल से लगभग 10 वन्यप्राणियों की मौत हो चुकी है। जंगल में जल संकट कोई नई बात नहीं है।

तीन साल से सिरपुर क्षेत्र में घुम रहा हाथियों का दल
भालूओं के अलावा पिछले 3.५ वर्षों से हाथियों का दल लगातार सिरपुर क्षेत्र के ग्रामीण अंचलों में घूम रहा हैं। हाथियों की वजह से अब तक लाखों के जान-माल का नुकसान चुका है। वहीं वन्यप्राणियों की भी मौतें हुई है।

चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned