scriptCampaign to stop the use of plastic, emphasis will be on cloth bags | प्लास्टिक का उपयोग रोकने चलेगी मुहिम, कपड़े के थैले पर रहेगा जोर | Patrika News

प्लास्टिक का उपयोग रोकने चलेगी मुहिम, कपड़े के थैले पर रहेगा जोर

महासमुंद. शहर में प्लास्टिक के उपयोग में कमी लाने के लिए अब नगर पालिका एक मुहिम चलाने वाली है। इसके तहत प्रतिबंधित पॉलीथिन के स्थान पर कपड़े के थैले का उपयोग करने पर ज्यादा जोर दिया जाएगा। यही नहीं, शहर की महालक्ष्मी समूह की महिलाओं ने एक झोला बैंक भी बनाया है।

महासमुंद

Updated: March 26, 2022 05:04:37 pm

महासमुंद. शहर में प्लास्टिक के उपयोग में कमी लाने के लिए अब नगर पालिका एक मुहिम चलाने वाली है। इसके तहत प्रतिबंधित पॉलीथिन के स्थान पर कपड़े के थैले का उपयोग करने पर ज्यादा जोर दिया जाएगा। यही नहीं, शहर की महालक्ष्मी समूह की महिलाओं ने एक झोला बैंक भी बनाया है।
समूह की महिलाएं कपड़े का झोला बनाने काम में जुट गई हैं। नगर पालिका से मिली जानकारी के अनुसार शहर के दुकानदारों को कपड़े के झोले का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। इसके अलावा लोगों को भी जागरूक किया जाएगा। जिससे पर्यावरण व वातावरण स्वच्छ हो। अभी स्वच्छता सर्वे चल रहा है। इस बार अच्छी रेटिंग व रैंकिंग के लिए नगर पालिका कोई कसर नहीं छोडऩा चाहती। नगर पालिका के मिशन क्लीन सिटी के प्रभारी नवशाद बक्श ने बताया कि जूट और कपड़े के थैले दुकानों में विक्रय करने के लिए तैयार किए जा रहे हैं। इसके माध्यम से प्रतिबंधित पॉलिथीन के उपयोग में कमी लाने के प्रयास किए जाएंगे। आगामी दिनों में प्लास्टिक के उपयोग पर कार्रवाई भी की जाएगी। समूह से जुड़ी ममता बग्गा ने बताया कि मुख्य नगर पालिका अधिकारी के निर्देश पर झोले की सिलाई का कार्य जारी है। समूह का मुख्य उद्देश्य लोगों को प्रतिबंधित पॉलिथीन के उपयोग में कमी लाने के लिए जागरूक करना है। जिससे वातावरण अच्छा रहे।
एक क्विंटल निकलता है प्लास्टिक कचरा
मिशन क्लीन सिटी से मिली जानकारी के अनुसार डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन और दुकानों व सार्वजनिक स्थानों की साफ-सफाई के बाद प्रतिदिन लगभग एक क्विंटल प्लास्टिक कचरा निकलता है। इसके अलावा 9 टन गीला कचरा और 5 टन सूखा कचरा निकलता है। गीले कचरे को खाद बनाने में उपयोग में लाया जाता है।
कार्रवाई का असर नहीं
नगर पालिका द्वारा पूर्व में भी प्लास्टिक का उपयोग न करने के लिए अभियान चलाया जा चुका है। कार्रवाई भी की जा चुकी है। यह अभियान कुछ ही दिन चलता है, इसके बाद फिर से प्लास्टिक चलन में आ जाते हैं और उपयोग शुरू हो जाता है। प्लास्टिक नालियों में अटके रहते हैं। जिससे नालियां भी जाम हो जाती हैं। बारिश के बाद यह कचरा सड़कों पर आ जाता है।
प्लास्टिक का उपयोग रोकने चलेगी मुहिम, कपड़े के थैले पर रहेगा जोर
प्लास्टिक का उपयोग रोकने चलेगी मुहिम, कपड़े के थैले पर रहेगा जोर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलसेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेसIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: राजस्थान ने गुजरात को जीत के लिए दिया 189 रनों का लक्ष्य'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'नवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.