जंगली हाथियों को सामने देख सरपट भागे नेता जी, डेढ़ घंटे तक झाड़ियों में छिपकर बचाई जान

Elephant Attack in Mahasamund: बता दें कि शनिवार को दंतैल ने एक बुजुर्ग को पटक कर मार डाला था।

महासमुंद. कुकराडीह गांव में दंतैल के हमले से एक बुजुर्ग की मौत के बाद ग्रामीण खौफजदा हैं। घटना के दूसरे दिन शनिवार की रात को भी 7 हाथियों के दल ने कुकराडीह में जमकर उत्पात मचाया। यही नहीं, महासमुंद जनपद अध्यक्ष को भी हाथियों के सामने आ जाने से झाडिय़ों के नीचे पानी में छिपकर अपनी जान बचानी (Elephant Attack in chhattisgarh) पड़ी। बता दें कि शनिवार को दंतैल ने एक बुजुर्ग को पटक कर मार डाला था।

जंगली हाथियों को सामने देख सरपट भागे नेता जी, डेढ़ घंटे तक झाड़ियों में छिपकर बचाई जान

शार्टकट रास्ते से जा रहे थे घर

इस घटना से आक्रोशित ग्रामीण मृतक की लाश को उठाने नहीं दे रहे थे। इसी बात को लेकर वन विभाग के अधिकारियों और ग्रामीणों के बीच बहस भी हुई। खबर पाकर जनपद अध्यक्ष धरमदास महिलांग भी पहुंचे थे। मामला शांत होने के बाद वे शार्टकट रास्ते से अपने गांव जोबा लौट रहे थे। कुकराडीह से कुछ दूर पहुंचे ही थे कि हाथियों का दल उनके कार के सामने आ गया। समूह में हाथियों को देखकर जनपद अध्यक्ष के होश उड़ गए। उन्होंने कार को मोड़कर वहां से निकलने की कोशिश की लेकिन कार खेत में फंस गई।

हाथी भी कार के नजदीक आ गए थे। कार को देखते हुए हाथी चिंघाडऩे लगे। घबराए जनपद अध्यक्ष जान बचाने के लिए कार से उतरकर भागे और झाडिय़ों में छिप गए। जनपद अध्यक्ष धरमदास महिलांग ने बताया कि उनके सामने लगभग सात हाथी थे। मेरी किस्मत थी कि उन्होंने मुझे दौड़ाया नहीं। वे करीब डेढ़ घंटे वहीं पानी और झाडिय़ों के बीच बैठे रहे। इसके बाद वापस कुकराडीह पहुंचे।

Show More
चंदू निर्मलकर
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned