70 एकड़ की खेत को हाथियों ने रौंदा, बर्बाद फसलों को देखकर किसानों के आंखों में आंसू

70 एकड़ की खेत को हाथियों ने रौंदा, बर्बाद फसलों को देखकर किसानों के आंखों में आंसू

Deepak Sahu | Publish: Nov, 10 2018 08:13:00 PM (IST) Mahasamund, Mahasamund, Chhattisgarh, India

सिरपुर क्षेंत्र के ग्राम खड़सा, मोहकम, लहंगर सहित आसपास के गांवों में एक बार फिर हाथियों की आमद से किसान परेशान है

महासमुंद. सिरपुर क्षेंत्र के ग्राम खड़सा, मोहकम, लहंगर सहित आसपास के गांवों में एक बार फिर हाथियों की आमद से किसान परेशान है। 17 हाथियों का दल इन गांवों में घूम-घूमकर फसलों को नुकसान पहुंचा रहा है। तीन दिनों के अंदर हाथियों ने करीब 60-70 एकड़ फसल को रौंद डाला। बर्बाद फसलों को देखकर किसानों के आंखों में आंसू आ गए। वर्तमान में 17 हाथी ग्राम लहंगर के बनीला खार परसाडीह मार्ग में विचरण कर रहे हैं। किसान अपनी फसलों को बचाने के लिए मशाल लेकर रतजगा कर रहे हैं।

हाथी भगाओ फसल बचाओ समिति के संयोजक राधेलाल सिन्हा ने बताया कि 9 नवंबर की बीती रात 17 हाथी का दल ग्राम लहंगर के बनीला खार में किसानों के फसलों को रौंद डाला। किसान कोमल सिन्हा, अर्जुन ध्रुव, तेल निषाद, चैतराम गैर, राम प्यारे, मनोज दीवान, बेदराम, बिशेसिंह ध्रुव, हरिराम, हिरामन निषाद, भानसिंह दीवान, रामनाथ, नरोत्तम दीवान सहित अन्य किसानों के फसलों को हाथियों ने खा लिया।

किसानों के दर्द को सुनने वाला कोई नहीं है। वन विभाग की टीम भी क्षेत्र में गस्त नहीं कर रही है। लोकेशन नहीं मिलने के कारण फसल बर्बाद हो रही है। एक किसान ने बताया कि उन्होंने धान की फसल को काटकर रखा था, दीपावली त्योहार के बाद समर्थन मूल्य में बेचने की राह देख रहा था, लेकिन हाथियों ने दल ने सपना चूर-चूर कर दिया। उनकी फसल को खा लिया।

ज्ञात हो कि हाथियों का दल 7 नवंबर को सिरपुर क्षेत्र में विचरण कर रहे थे। इधर किसान अपने घरों में लक्ष्मी पूजा कर रहे थे। तब उन्हें पता चला कि हाथी उनके खून के पसीने की कमाई को नुकसान पहुंचा रहे हैं। हाथियों ने संतोष सिंन्हा, पुनीत सिन्हा, विषनाथ यादव, भारत यादव, तोषण सेेन आदि अनेक किसानों के फसल को नुकसान पहुंचाया।

वन विभाग को किसानों से कोई सरोकार नहीं
किसानों का कहना है कि हाथियों के उत्पात से फसल बचा पाना दिनो-दिन मुश्किल होता जा रहा है। किसानों के लिए बहुत ही मुश्किल हो गया है, इससे किसान परेशान है। प्रशासन चुनाव में व्यस्त है। वन विभाग को किसानों की परेशानी सेे कोई सरोकार नहीं है। हाथी भगाओ फसल बचाओ समिति के संयोजक राधेलाल सिंन्हा नेे बताया कि किसानों के पास मिट्टी तेल तक नहीं है। गांवों में भ्रमण कर मिट्टी तेल खरीदकर फसल बचाने की मशक्कत कर रहे हैं। 40-40 की टीम बनाकर किसान रात में रतजगा कर रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned