गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ थीम पर होगा युवा महोत्सव, सामने आएगी प्रतिभा

गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ थीम पर होगा युवा महोत्सव, सामने आएगी प्रतिभा
गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ थीम पर होगा युवा महोत्सव, सामने आएगी प्रतिभा

Bhawna Chaudhary | Updated: 12 Oct 2019, 10:00:00 PM (IST) Mahasamund, Mahasamund, Chhattisgarh, India

खेल एवं युवा कल्याण विभाग की ओर से युवा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। इस बार युवा महोत्सव का थीम गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ होगा।

महासमुंद. खेल एवं युवा कल्याण विभाग की ओर से युवा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। इस बार युवा महोत्सव का थीम गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ होगा। कलेक्टर के मार्गदर्शन में युवाओं को विशेष अवसर एवं मंच प्रदान करने, सांस्कृतिक गतिविधियों से युवाओं को जोडऩे और उनकी प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से युवा उत्सव का आयोजन किया जा रहा है।

खेल अधिकारी मनोज कुमार धृतलहरे ने बताया कि युवा महोत्सव का आयोजन तीन स्तरों पर आयोजित होगा। इसमें विकासखण्ड स्तरीय, जिला स्तरीय, राज्य स्तरीय आयोजन होंगे। विकासखण्ड स्तर पर युवा महोत्सव का आयोजन 15 अक्टूबर से 15 नवम्बर व जिला स्तर पर 15 नवम्बर से 15 दिसम्बर 2019 के मध्य होंगे। वहीं राज्य स्तरीय युवा महोत्सव का आयोजन 12 से 14 जनवरी 2020 तक की अवधि में रायपुर में किया जाएगा। युवा महोत्सव ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ की थीम’ पर आधारित होगा। इसमें भारतीय संस्कृति और छत्तीसगढ़ सांस्कृतिक विरासत के संदर्भ में भारतीय संस्कृति व छत्तीसगढ़ संस्कृति के आधारभूत मूल्यों का प्रदर्शन आवश्यक है। खेल विभाग इसकी तैयारी में जुट गया है।

15 से 40 वर्ष के युवा ले सकते हैं हिस्सा
उक्त प्रतियोगिता 15 वर्ष से 40 वर्ष एवं 40 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में आयोजित की जाएगी। विकासखण्ड स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागी जिला स्तर की प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए पात्र होंगे। जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागी राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में भाग पात्रता होंगे। इस युवा महोत्सव में इच्छुक युवा प्रतिभागी भाग ले सकते हैं।

इन विधाओं में होगी प्रतियोगिता
युवा महोत्सव में लोकनृत्य, लोकगीत, एकांकी, नाटक (सिर्फ हिन्दी, अंग्रेजी भाषा), हारमोनियम वादन, तबला वादन(शास्त्रीय वादन) व तत्कालिक भाषण, बांसुरी वादन(शास्त्रीय वादन), सितार वादन(शास्त्रीय वादन), वीणा वादन (शास्त्रीय वादन), शास्त्रीय गायन (हिन्दुस्तानी एवं कर्नाटक शैली में) मृदंगम वादन (शास्त्रीय वादन), गिटार वादन (भारतीय या पाश्चात्य संगीत), मणीपुरी(शास्त्रीय नृत्य), ओडिसी (शास्त्रीय नृत्य), भरतनाट्यम (शास्त्रीय नृत्य), कत्थक(शास्त्रीय नृत्य), कुचीपुड़ी (शास्त्रीय नृत्य)। उपरोक्त विधाओं के अतिरिक्त सुआ, पंथी, करमा नाचा, सरहूल नाचा, बस्तरिहा लोकनृत्य, राउत नाचा, फुगड़ी, भौंरा, गेड़ी दौड़, रॉक बैण्ड, पारंपरिक वेशभूषा(विविध वेशभूषा), फूड फेस्टीवल(छत्तीसगढ़ व्यंजनों के आधार पर प्रतियोगिता) और चित्रकला प्रतियोगिता(छत्तीसगढ़ के लोक संस्कृति के चित्रण पर प्रतियोगिता) विधाएं सम्मिलित की गई हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned