मांगों पर शासन की सहमति, फिर भी नहीं हुआ आदेश प्रसारित

विभिन्न मांगों पर शासन की सहमति मिलने के बावजूद उस पर अब तक आदेश प्रसारित नहीं होने के कारण छग आंगनबाड़ी कार्यकर्ता संघ पुन: आंदोलन के मूड में

By: Deepak Sahu

Published: 24 Jul 2018, 02:50 PM IST

महासमुंद. छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में विभिन्न मांगों पर शासन की सहमति मिलने के बावजूद उस पर अब तक आदेश प्रसारित नहीं होने के कारण छग आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका संघ पुन: आंदोलन के मूड में है। संघ ने सोमवार को आयुक्त एवं संचालक महिला एवं बाल विकास विभाग रायपुर के नाम कलक्टर को ज्ञापन सौंपा।

किया धरना प्रदर्शन
संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं को शासकीय कर्मचारी घोषित, मानदेय में वृद्धि, बर्खास्त कार्यकर्ता व सहायिकाओं को नि:शर्त बहाल, पेंशन, ईपीएफ समूह बीमा योजना, सेवानिवृत्ति के समय कार्यकर्ता को 2 लाख और सहायिकाओं को 1 लाख रुपए एकमुश्त राशि, रिक्त पदों पर सहायिकाओं के लिए 25 प्रतिशत बंधन को समाप्त, सुपरवाइजर के रिक्त पदों की पूर्ति आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से शत-प्रतिशत करना, अन्य विभागों के कार्यों पर प्रतिबंध, आंगनबाड़ी केंद्रों में दर्ज संख्या कम होने के नाम से केंद्र बंद, ईंधन व्यय में बढ़ोतरी एवं मिनी आंगनबाड़ी को समाप्त कर आंगनबाड़ी केंद्रों में परिवर्तित करने की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन किया गया था।

घोषणा पर अमल नहीं
मांगों पर मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं के मानदेय में 1000 रुपए व सहायिकाओं के मानदेय में 500 रुपए की वृद्धि करने की घोषणा की थी। इसी तरह कार्यकर्ता को पचास हजार और सहायिकाओं को 25 हजार सेवानिवृत्ती पर एकमुश्त राशि भुगतान किए जाने की घोषणा की गई, लेकिन अभी तक आदेश प्रसारित नहीं हुआ है। संघ ने कलक्टर को सौंपे ज्ञापन में कहा कि यदि मांगों पर विचार नहीं हुआ तो पुन: चरणबद्ध हड़ताल करेंगे।

हड़ताल की रणनीति
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिकाओं ने चरणबद्ध हड़ताल की शुरुआत सोमवार को कलक्टर को ज्ञापन सौंपकर की है। यदि इस पर विचार नहीं हुआ तो संघ 1 से 22 अगस्त तक अगस्त क्रांति अभियान के तहत प्रदेश के संभागीय मुख्यालय में सम्मेलन, रैली आयोजित कर संभागायुक्त के माध्यम से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपेगा। 23 अगस्त को रायपुर में प्रांतीय रैली निकाली जाएगी। इसके बाद भी यदि मांगों पर सहमति नहीं बनी तो माह सितंबर में बेमियादी हड़ताल करेंगे।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned