ओडिशा की सीमा से लगे इस क्षेत्र में सड़कों पर उतरी महिलाएं, ये है वजह

ओडिशा की सीमा से लगे इस क्षेत्र में सड़कों पर उतरी महिलाएं, ये है वजह

Deepak Sahu | Publish: Sep, 11 2018 06:39:00 PM (IST) Mahasamund, Chhattisgarh, India

अवैध शराब बिक्रय को लेकर ग्रामीणों में जहां गाली-गलौज से लेकर मारपीट तक होने लगी है

सरायपाली. क्षेत्र का बहुत बड़ा इलाका ओडिशा सीमा से लगा हुआ है। ओडिशा में बनी शराब को सिरपुर, बलौदा, तोरेसिंहा, तोषगांव, सिंघोड़ा, चारभाठा क्षेत्र के गांवों में आसानी से खपाया जा रहा है। शराब तस्कर ओडिशा से शराब लाकर यहां के कोचियों के माध्यम से बेच रहे हैं। बताया जाता है कि ओडिशा में बनी शराब यहां की शराब से सस्ती होने की वजह से उसकी मांग बढ़ जाती है।

जिस तरह से महासमुंद जिले के एकमात्र निर्दलीय विधायक डॉ. विमल चोपड़ा ने शराबबंदी को लेकर जन जागरण अभियान चला रखा है व छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे) के संस्थापक अजीत जोगी ने अपनी सरकार बनने पर छत्तीसगढ़ में शराबबंदी लागू करने की घोषणा की है। जिससे यह माना जा रहा है कि आने वाले चुनाव में शराबबंदी एक चुनावी मुद्दा बन सकता है। शराब के अवैध कारोबार से बहुत बड़ा वर्ग में रोष व्याप्त है। जो इसकी लत में पडक़र बर्बाद हो रहे हैं। उनके परिजन शराबबंदी लागू करवाना चाहते हैं। समाज का बहुत बड़ा वर्ग समाज पर पढ़ रहे दुष्प्रभाव से काफी चिंतित हैं। अवैध शराब की बिक्री के चलते गांव में अराजकता का माहौल है। शराबबंदी चुनावी मुद्दा बनने से सत्ता पक्ष को भारी पड़ सकता है। चुनावी मुद्दा के साथ-साथ महुआ शराब चुनाव परिणाम को प्रभावित करने में बड़ी भूमिका निभा सकती है। वोटरों को लुभाने के लिए महुआ शराब के उपयोग से भी इनकार नहीं किया जा सकता।

अवैध शराब की बिक्री को लेकर गांव में हो रही मारपीट
सागरपाली, बिछियां, लंबर, बड़े साजापाली क्षेत्र में बड़ी तादाद में अवैध शराब की बिक्री हो रही है। अवैध शराब बिक्रय को लेकर ग्रामीणों में जहां गाली-गलौज से लेकर मारपीट तक होने लगी है। वहीं गांवों का अमन-चैन खतरे में पड़ गया है। पिछले दिनों बसना थाना अंतर्गत स्थित बिछियां (प) में अवैध शराब को लेकर बलवा जैसी घटना घटित हो चुकी है। उसको देखते हुए बिछियां (सा) के ग्रामीणों ने एक बैठक आहूत कर गांव में शराब बेचने और बनाने को लेकर चिंता जाहिर करते हुए इस पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया है। वहीं समीपस्थ ग्राम सागरपाली के महिला समिति के सदस्यों द्वारा गांव में शराब बेचने वाले एक होटल व्यवसायी पर जुर्माना लगाते हुए भविष्य में शराब बेचने और बनाने वालों को चेतावनी दी गई है। इसी तरह समीपस्थ ग्राम सुखापाली में भी शराब बेचना और बनाना प्रतिबंधित किया गया है। इसके बावजूद भी क्षेत्र के कई गांवों में धड़ल्ले से शराब बेचने बनाने का गोरखधंधा फल-फूल रहा है। खास करके आंवलाचक्का, लोहरीनडीपा, छिर्राबहारा, झालपाली, नवरंगपुर, पल्सापाली, कस्तुराबहाल आदि गांव में बड़े पैमाने में शराब बनाई जा रही है, इन्हीं गांवों में बनी शराब की सप्लाई आस-पास के गांव में की जाती है। ग्राम रोहिना, सागरपाली, कापुडीह, दुर्गापाली, बंसुलीडीह, कुसमुर, खोकसा आदि गांवों में शराब की अवैध बिक्री खुलेआम हो रही है। शाम होते ही शराब ठिकानों में भीड़ उमडऩे लगती है। अब तो शराब की सप्लाई दिनदहाड़े होने लगी है। कुछ लोग महिलाओं की आड़ में शराब की ढुलाई करते हैं। आबकारी एवं पुलिस विभाग को जानकारी देने के बाद भी कार्यवाही नहीं किए जाने से इनके हौसले बुलंद हैं। क्राइम ब्रांच एक-दो मामले में कार्यवाही तो करता है, मगर शराब कोचियों की मन में इसी प्रकार का डर नहीं है। बड़े पैमाने पर धरपकड़ की जरूरत है। इतनी तादाद में शराब बिक्री होने के बाद भी पुलिस प्रशासन की कमजोरी है।

रैली निकाल कर नशे से दूर रहने की अपील
बिछियां. ग्राम बिछियां में नशा मुक्ति अभियान के तहत महिलाओं एवं पंचायत के पदाधिकारियों ने रविवार को रैली निकालकर ग्राम बिछियां के ग्रामीण नागरिकों को नशा से दूर रहने एवं नशापान न करने की अपील की है। इस तरह से ग्राम बिछियां के महिला समूह एवं पंचायत पदाधिकारियों द्वारा गांव को नशा मुक्त करने का आव्हान किया करते हुए गांव के गली-गली में भ्रमण कर नशा से मुक्ति दिलाने की शपथ ग्रामीणो को दिलाई है।

Ad Block is Banned