जानिए महासमुंद सीट की चुनावी दांव- पेंच, कांग्रेस के दिग्गज नेता विद्याचरण शुक्ल ने शुरू की थी यहाँ से राजनीति

* बूथों पर एक हजार से अधिक सशस्त्र पुलिस बल तैनात। चुनाव के दौरान मतदान केन्द्र से 200 मीटर के क्षेत्र में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू है

By: Deepak Sahu

Published: 18 Apr 2019, 10:51 AM IST

महासमुंद। कांग्रेस के दिग्गज नेता विद्या चरण शुक्ल ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत महासमुंद से ही की थी। विद्याचरण शुक्ल ने इस सीट पर सर्वाधिक छह बार विजय हासिल की। उन्होंने पहली बार 1957 में इसी सीट से चुनाव जीतकर संसदीय जीवन की शुरुआत की थी। 2004 में जब उन्होंने भाजपा में शामिल होने के लिए कांग्रेस छोड़ दी, तो वो फिर महासमुंद लौट आए, लेकिन कांग्रेस के अजीत जोगी से हार गए।

इस सीट पर सर्वाधिक तीन बार भाजपा के टिकट पर हारने का रिकॉर्ड चन्द्रशेखर साहू के नाम है। विद्याचरण शुक्ल के भाई एवं अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे श्यामाचरण शुक्ल तथा पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने भी एक-एक बार इस सीट से जीत दर्ज की है ।

साल 2000 में मध्य प्रदेश के विभाजन के बाद बने छत्तीसगढ़ के अंतर्गत आने के बाद यहां से तीन लोकसभा चुनाव हो चुके हैं। 2009 और 2014 के चुनावों को छोड़ दें तो इससे पहले कांग्रेस के अलावा कभी किसी पार्टी को लगातार दो बार जीत नहीं मिली है। भाजपा के चंदूलाल ने 2009 और 2014 में लगातार जीत हासिल कर यह चमत्कार कर दिखाया।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

CG Lok Sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News App.

 

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned