scriptNew Update of Ayushman card distribution door-to-door start see detail | Ayushman Card: अब नहीं होना होगा परेशान, आयुष्मान कार्ड के आवेदकों को डोर-टू-डोर मिलेगी ये सुविधा | Patrika News

Ayushman Card: अब नहीं होना होगा परेशान, आयुष्मान कार्ड के आवेदकों को डोर-टू-डोर मिलेगी ये सुविधा

Ayushman Card: मार्च-अप्रैल महीने में पंजीयन कराने के बाद भी कार्ड नहीं मिलने से च्वाइस सेंटरों से निराश लौट रहे लोगों के लिए राहत भरी खबर है। अब आयुष्मान के प्लास्टिक कार्ड का वितरण डोर-टू-डोर किया जाएगा।

महासमुंद

Updated: December 17, 2021 01:50:12 pm

महासमुंद. Ayushman Card: मार्च-अप्रैल महीने में पंजीयन कराने के बाद भी कार्ड नहीं मिलने से च्वाइस सेंटरों से निराश लौट रहे लोगों के लिए राहत भरी खबर है। अब आयुष्मान के प्लास्टिक कार्ड का वितरण डोर-टू-डोर किया जाएगा। इसके लिए तैयारी शुरू हो गई है। च्वाइस सेंटरों के माध्यम से ही वितरण करने की तैयारी है। वर्तमान में प्लास्टिक के आयुष्मान कार्ड के लिए हितग्राही चक्कर काट रहे हैं। पंजीयन के आठ महीने के बाद कई हितग्राहियों को कार्ड नहीं मिला है।
Ayushman card making date increased
Ayushman Card: अब नहीं होना होगा परेशान, आयुष्मान कार्ड के आवेदकों को डोर-टू-डोर मिलेगी ये सुविधा
कुछ च्वाइस सेंटरों में कार्ड पहुंच गए थे, लेकिन च्वाइस सेंटर वाले संपर्क कर वितरण नहीं कर रहे थे। अब अन्य च्वाइस सेंटर के माध्यम से वितरण कराने की तैयारी है। जिले में मार्च और अप्रैल में 4 लाख 88 हजार 294 कार्ड बनाए गए थे। इसमें चार लाख 59 हजार 318 कार्ड पहुंच चुके हैं। 28 हजार कार्ड आने बाकी है। 74 प्रतिशत कार्ड का वितरण कर दिया गया है। च्वाइस सेंटर के जिला प्रबंधक श्यामल शर्मा ने बताया कि कई च्वाइस सेंटर में कार्ड पहुंच गए थे, वे हितग्राहियों से संपर्क कर वितरण नहीं कर रहे थे, अब उनसे कार्ड लेकर अन्य च्वाइस सेंटर के माध्यम से हितग्राहियों को डोर-डोर पहुंचकर कार्ड वितरण जाएगा।
यह भी पढ़ें: Aadhar Card: अब अंग्रेजी के अलावा इन क्षेत्रीय भाषाओं में भी बनवा सकते हैं आधार कार्ड, ये है प्रोसेस

ग्रामीण क्षेत्रों में कार्ड लेने नहीं आ रहे हितग्राही
ग्रामीण क्षेत्रों में शिविर लगाकर मार्च व अप्रैल के महीने में लोगों के आयुष्मान कार्ड के लिए बायोमेट्रिक सत्यापन कराया गया था। इसके बाद जिन च्वाइस सेंटरों में ज्यादा पंजीयन हुआ है, वहां कार्ड पहुंचने लग गए हैं, लेकिन हितग्राही अपना कार्ड लेने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में नहीं आए, जिसके कारण शेष रह गए और च्वाइस सेंटर वालों ने भी उन्हें संपर्क नहीं किया। गौरतलब है कि च्वाइस सेंटर से भी कार्ड नि:शुल्क वितरण किया जाना है, इस वजह से च्वाइस सेंटर रुचि नहीं लेते हैं।
महासमुंद जिला राज्य में चौथे स्थान पर
आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए सत्यापन की प्रक्रिया जारी है। जिन हितग्राहियों ने सत्यापन नहीं कराया है, वे करा सकते हैं। गौरतलब है कि पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों का बायोमेट्रिक नहीं होने से अब तक उनका सत्यापन नहीं हो पाया है। बायोमेट्रिक सत्यापन में तेजी नहीं आ पा रही है। महासमुंद जिला आयुष्मान कार्ड के वितरण के मामले में अभी राज्य में चौथे स्थान पर है।
यह भी पढ़ें: Digital Health ID: डिजिटल हेल्थ आईडी बनाने में रायपुर देश में नंबर-1, जानिए इसके फायदे

सीएससी प्रबंधक श्यामल शर्मा ने कहा, आयुष्मान कार्ड डोर-टू-डोर वितरण किया जाएगा। च्वाइस सेंटरों के पास आइडी होती है। जिससे वे एडरेस देखकर वितरण कर सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.