वाहन चेकिंग के दौरान हुआ बड़ा खुलासा, 50 लीटर शराब तस्करी करते पुलिस आरक्षक गिरफ्तार

आरोपी के विरुद्ध 34 (2) आबकारी अधिनियम के तहत कार्यवाही की गई। पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ल ने बताया कि इस कार्रवाई से स्पष्ट यह संदेश है कि शराब का तस्कर चाहे कोई भी हो उस पर कार्रवाई की जाएगी।

महासमुंद. सरायपाली पुलिस ने अवैध रूप से शराब परिवहन करते हुए सिंघोड़ा थाना में पदस्थ एक प्रधान आरक्षक को गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही पुलिस ने 50 लीटर महुआ शराब को भी जब्त किया है। प्रधान आरक्षक शराब को डोंगारक्शा से प्रेतनडीह ले जा रहा था। जिले में आगामी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मद्देनजर अवैध शराब पर कार्रवाई करने के लिए पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ल द्वारा थाना प्रभारियों को निर्देश दिए गए थे। इसी वजह से विभिन्न थाना क्षेत्रों में लगातार अवैध शराब पर कार्रवाई की जा रही है।

इसी कड़ी में 20 जनवरी को थाना सरायपाली पुलिस को सूचना मिली की ओडि़शा की तरफ से चार पहिया वाहन से भारी मात्रा में अवैध शराब का परिवहन किया जाने वाला है। इस पर सूचना के तस्दीक के लिए प्रभारी के नेतृत्व में भोथलडीह चौक एनएच 53 में स्टापर लगाकर संदिग्ध वाहनों की चेकिंग की जा रही थी। चेकिंग के दौरान एक स्कार्पियों वाहन क्रमांक सीजी 13 यू ए 8318 को रोका गया और वाहन में एक सिल्वर रंग के जरकिन में 50 लीटर महुआ शराब से भरा हुआ मिला। अवैध शराब की बरामद पर पता चला कि वाहन मेंं थाना सिंघोड़ा मेंं पदस्थ प्रधान आरक्षक वृंदानंद भोई पिता शौकीलाल भोई (47) निवासी प्रेतनडीह थाना सरायपाली सवार था। इसके अलावा एक अन्य आरक्षक भी वाहन में सवार था। जो वाहन में सिंघोड़ा थाना के सामने से बैठे थे, जो अपने घर जा रहे थे। वृंदावन से शराब के संबंध में कोई वैधानिक दस्तावेज प्रस्तुत नहीं कर पाया। इसके अलावा शराब के अलावा परिवहन में प्रयुक्त वाहन वाहन को भी जब्त किया है।

पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध 34 (2) आबकारी अधिनियम के तहत कार्यवाही की गई। पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ल ने प्रेस वार्ता में बताया कि इस कार्रवाई से स्पष्ट यह संदेश है कि शराब का तस्कर चाहे कोई भी हो उस पर कार्रवाई की जाएगी। इस मामले की विभागीय जांच भी की जाएगी। इसके साथ ही विभाग के किसी भी कर्मचारी की अवैध कार्यों में संलिप्ता पाए जाने पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि वृंदावन पहले भी ऐसी तस्करी किया होगा, इससे इंकार नहीं किया जा सकता है। इसके पूर्व भी उसके खिलाफ शिकायत दर्ज हुई है। यह संपूर्ण कार्रवाई पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ल के मार्गदर्शन पर अनुविभागीय अधिकारी राजीव शर्मा के निर्देशन पर थाना प्रभारी सरायपाली मल्लिका तिवारी द्वारा की गई।

सिंघोड़ा थाना के संलिता की आ रही थी शिकायत
पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ल ने प्रेसवार्ता में बताया कि यह बार्डर का थाना है। यहां तस्करी की खबरे आती रहती हैं और सिंघोड़ा थाना में अवैध गतिविधियों की शिकायत आ रही थी। इस पर हम लगातार नजर बनाए हुए थे। एसपी ने बताया कि पंचायत चुनाव को लेकर लगातार चेकिंग की जा रही है। आगे भी कार्रवाई जारी रहेगी।

Click & Read More Chhattisgarh News.

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned