डामर की परत उखाड़ने से सड़क बने जानलेवा, विकास यात्रा से पहले ही हुई थी मरम्मत

डामर की परत उखाड़ने से सड़क बने जानलेवा, विकास यात्रा से पहले ही हुई थी मरम्मत

Deepak Sahu | Publish: Oct, 13 2018 08:00:00 PM (IST) Mahasamund, Chhattisgarh, India

जगह जगह जानलेवा गड्ढे बन जाने से हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है

सरायपाली. सरायपाली-सरसीवां मार्ग से जगह-जगह डामर की परत उखडऩे से जानलेवा गड्ढे बन गए हैं। इन गड्ढों की वजह से आवागमन बाधित हो रही है। नाला से लेकर गाताडीह तक सडक़ ज्यादा खराब हुई है।

जगह जगह जानलेवा गड्ढे बन जाने से हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा पेंच रिपेयरिंग का कार्य नहीं कराए जाने की वजह से लोगों में आक्रोश पनप रहा है। पिछले विकास यात्रा के दौरान ही सडक़ मार्ग की मरम्मत लोक निर्माण विभाग द्वारा किया गया था। मगर बरसात के समय डामर की परतें उखड़ गई।

सरायपाली-सरसीवां मार्ग का निर्माण एशियन विकास बैंक की वित्तीय सहायता से किया गया था। करीब 55 करोड़ की लागत से सडक़ का चौड़ीकरण के साथ-साथ डामरीकरण का कार्य भी किया गया था। गारंटी पीरियड तक ठेकेदार ने मरम्मत कार्य किया। लेकिन गारंटी पीरियड खत्म होते ही पीडब्ल्यूडी ने समय पर मरम्मत कार्य नहीं कराने से डामर की ऊपरी परत उखडऩे लगी। पिछले 27 मई को इसी मार्ग से होकर डॉ. रमन सिंह की विकास यात्रा गुजरी थी। यात्रा के पहले पूरे मार्ग की काम चलाऊ मरम्मत की गई थी।

यात्रा के गुजरने के साथ ही डामर की परतें उखडक़र अपनी पूर्व स्थिति में आ गई। नाला से लेकर गाताडीह तक डामर की सीलकोट पूरी तरह से उखड़ चुकी है, जो राहगीरों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। हरदी स्कूल के पास डामर पूरी तरह से उखड़ चुकी है और लंबर पुल के पास बड़े-बड़े जानलेवा गड्ढे बन गए हैं। इन गड्ढों को गिट्टी डस्ट से भरा तो जाता है। ग्रामीणों ने मार्ग को नए सिरे से डामरीकरण किए जाने की मांग शासन से की है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned