आवारा मवेशियों से फसल को बचाने के लिए किसानों ने सड़क से लगे खेतों को तार से घेरकर फसलों को किया सुरक्षित

आवारा मवेशियों से  फसल को बचाने के लिए  किसानों ने सड़क से लगे खेतों को तार से घेरकर फसलों को किया सुरक्षित

Deepak Sahu | Publish: Sep, 16 2018 11:00:00 PM (IST) Mahasamund, Chhattisgarh, India

ग्रामीणों ने अपनी उम्मीद की फसल को आवारा मवेशियों से बचाने के लिए सामूहिक प्रयास किया है।

महासमुंद. जिला मुख्यालय से लगे ग्राम पंचायत लभराखुर्द के ग्रामीणों ने अपनी उम्मीद की फसल को आवारा मवेशियों से बचाने के लिए सामूहिक प्रयास किया है।

ग्रामीणों ने मिलकर सड़क किनारे के खेतों को तार से घेरा है, ताकि आवारा मवेशी खेत में न घुस सकें और फसल सुरक्षित रहे। पिछले कई महीनों से आसपास के गांव के लोग आवारा मवेशियों से परेशान थे। गांवों में मवेशी छोड़े जाने से विवाद के साथ फसलों को क्षति भी पहुंच रही थी। इस कारण किसानों की परेशानी बढ़ गई थी। इससे राहत पाने के लिए ग्रामीणों ने मिलजुलकर और चंदा इकट्ठा किया और खेतों को तार से घेरा है।

READ MORE: स्वास्थ्य संयोजकों की हड़ताल से उपस्वास्थ्य केंद्रों में लटका ताला, इलाज के लिए भटक रहे मरीज

किसान प्रकाश चंद्राकर ने बताया कि आवारा मवेशियों की समस्या का कोई हल नहीं निकलता देख ग्रामसभा की बैठक में गांव के पंच-सरपंच और अन्य लोगों के सामने प्रस्ताव रखा गया। प्रस्ताव पर गांव वालों की मुहर लगने के बाद खेतों को तार से घेरकर आवारा मवेशियों से फसलों को बचाने की प्लानिंग की गई है।

RAED MORE: अब तक नहीं सुधरी व्यवस्था, नालों से आ रहा गंदा पानी बढ़ रहा बिमारियों का खतरा

ग्रामीणों ने सिंचाई के लिए बनी छोटी नहरों को भी सुरक्षित रखने का प्रयास किया है। मवेशियों को पानी के लिए भटकना न पड़े, इसके लिए नहरों को कई जगह से खुला छोड़ा गया है। ताकि मवेशी पानी पी सकें।

READ MORE: टंकियों की सफाई नहीं होने से लोगों की बढ़ी परेशानी, मटमैला पानी को उबाल कर पीने को मजबूर

फोरलेन पर मवेशियों के कारण हादसे का खतरा
वर्तमान में आवारा मवेशियों ने कई गांवों के लोगों को परेशानी में डाल दिया है। फोरलेन और एनएच-३५३ पर मवेशियों का जमावड़ा है। दुर्घटना में कई मवेशियों की मौत भी हो चुकी है। फिर भी इस समस्या से लोगों को निजात नहीं मिल रही है।

Ad Block is Banned