जब चौथी क्लास की स्टूडेंट ने पूछा - सर कैसे बनते हैं IAS तो कलक्टर ने दिया ये जवाब

Ashish Gupta

Publish: Sep, 17 2017 08:06:41 (IST)

Mahasamund, Chhattisgarh, India
जब चौथी क्लास की स्टूडेंट ने पूछा - सर कैसे बनते हैं IAS तो कलक्टर ने दिया ये जवाब

महासमुंद कलक्टर ने अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान के अंतर्गत प्राथमिक शाला पहुंचकर बच्चों से बातचीत करते हुए उनसे पढ़ाई-लिखाई की जानकारी ली।

महासमुंद. कलक्टर हिमशिखर गुप्ता ने डॉ. अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान के अंतर्गत महासमुंद विकासखंड के प्राथमिक शाला खैरझिटी और मालीडीह पहुंचकर बच्चों से बातचीत करते हुए उनसे पढ़ाई-लिखाई की जानकारी ली। उन्होंने इन स्कूलों के हर कक्षा में पहुंचकर और लगभग हर एक-एक बच्चे से बात करते हुए उनके शैक्षणिक गुणवत्ता की जानकारी ली।

कलक्टर ने बच्चों से हिन्दी, अंग्रेजी और गणित सहित सामान्य ज्ञान और पर्यावरण संबंधी प्रश्न पूछे। सही उत्तर दिए जाने पर उन्होंने बच्चों को शाबासी दी और प्रोत्साहन स्वरूप उन्हें टॉफी भी दी। उन्होंने सुंदर हेंडराइटिंग के लिए भी बच्चों को पुरस्कृत किया। इस अवसर पर कक्षा दूसरी के सभी बच्चों ने एक साथ पूरा राष्ट्रगीत गाकर भी प्रशंसा पाई। कलक्टर ने स्वयं चाकमिट्टी लेकर बच्चों को उनकी कक्षा के स्तर के अनुरूप तख्ते में लिखकर कई सवाल दिए। प्राथमिक शाला खैरझिटी में एक बालिका के आंखों में विकृति जैसी समस्या नजर आने पर कलक्टर ने चिरायु दल द्वारा स्कूल के सभी बच्चों की स्वास्थ्य जांच कराने के निर्देश दिए।

शिक्षकों ने बताया कि पिछले वर्ष भी चिरायु के दल ने स्कूल के बच्चों की स्वास्थ्य जांच की थी। बच्चों ने बताया कि उन्हें पिछले माह कृमि की दवाई दी गई है। कक्षा पांचवीं के एक मेधावी बच्चे प्रीतम पटेल ने जब कहा कि वह बड़ा होकर बारहवीं तक पढ़ेगा और किसान बनेगा तो कलक्टर ने उसे सलाह दी कि वह अपने आप को स्कूल की पढ़ाई तक ही सीमित नहीं रखें, बल्कि बीएससी एग्रीकल्चर जैसी अच्छी पढ़ाई करें, जब अनेक बालक और बालिकाओं ने कहा कि वे बड़े होकर पुलिस में जाना चाहते हैं, तो कलक्टर ने उन्हें बधाई दी।

कैसे बनते हैं कलक्टर
कक्षा चौथी की मेधावी बालिका शालिनी ने कलक्टर से पूछा कि कलक्टर कैसे बनते हैं? कलक्टर ने उन्हें बताया कि इसके लिए काफी पढ़ाई करनी पड़ती है और स्कूल के बाद भी घर में अतिरिक्त समय देकर पढऩा पड़ता है। पहले वे अपनी स्नातक आदि की पढ़ाई भी अच्छे से पास करें। उन्होंने यह भी कहा कि प्रतिदिन समाचार पत्र पढ़ें, जिससे कि सामान्य ज्ञान अच्छा होगा। कलक्टर ने बच्चों को पहाड़ा भी पूछे। कक्षा तीसरी की करिश्मा ने जब उन्हें बताया कि उसे 29 तक का पहाड़ा कंठस्थ याद है, तो कलक्टर ने उनकी प्रशंसा की।

खाना मस्त बनता है
कलक्टर के स्कूल निरीक्षण के दौरान खैरझिटी और मालीडीह के बच्चों ने कहा कि खाना Óमस्तÓ बनता है। कलक्टर ने उनसे पूछा कि उन्हें भरपेट भोजन मिलता है कि नहीं और खाना बदल-बदल कर मिलता है कि नहीं ? बच्चों ने बताया कि अलग-अलग दिन मीनू के अनुसार अलग-अलग खाना मिलता है और उन्हें स्वादिष्ट लगता है। उन्होंने यह भी बताया कि शनिवार को खीर भी मिलती है। कलक्टर ने स्वयं रसोई घर पहुंचकर भी स्व सहायता समूह की महिलाओं से बातचीत की।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned