टैबलेट से स्कूलों की मॉनिटरिंग करने में हो रही परेशानी, समय पर नहीं हो रही है उपस्थिति दर्ज

टैबलेट से स्कूलों की मॉनिटरिंग करने में हो रही परेशानी, समय पर नहीं हो रही है उपस्थिति दर्ज

Deepak Sahu | Publish: Sep, 04 2018 08:00:00 PM (IST) Mahasamund, Chhattisgarh, India

रकारी कॉसमॉस टैबलेट से स्कूलों की मॉनिटरिंग करना परेशानी का सबब बन गया है।

महासमुंद. छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में सरकारी कॉसमॉस टैबलेट से स्कूलों की मॉनिटरिंग करना परेशानी का सबब बन गया है। सर्वर कमजोर होने और बैटरी बैकअप अच्छा नहीं होने से शिक्षक परेशान है ।

बार-बार करना पड़ता है चार्ज

हाल में शिक्षा विभाग ने पूरे जिले से टैबलेट वापस मंगाकर चिप्स के माध्यम से बनाया था, उसके बाद भी परेशानी कायम है। सर्वर स्लो होने की वजह से स्कूल की जानकारी भेजने में समस्या आती है। वर्तमान में ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करने में नेटवर्क के कारण परेशानी हो रही है। कई बार टैबलेट समय से शुरू नहीं होता है, जिसकी वजह से उपस्थिति दर्ज नहीं हो पा रही है। बैटरी अच्छा नहीं होने की वजह से इसे बार-बार चार्ज करना पड़ता है।

ऑनलाइन मॉनिटरिंग करने में परेशानी

चार्जिंग नहीं होने पर उपस्थिति दर्ज भी नहीं हो पाती है। टैबलेट चार्ज कर अंगूठे का निशान लगा रहे हैं, तब शिक्षक 15 से 20 मिनट विलंब हो जा रहे हैं। वहीं टैबलेट 2जी और 3 जी होने की वजह से बहुत ही धीरे काम करता है। जिससे शिक्षकों को काफी इंतजार करना पड़ता है। कई स्कूलों में कॉसमॉस टैबलेट खराब होने की जानकारी है। इस कारण ऑनलाइन मॉनिटरिंग करने में परेशानी आ रही है।

सभी ब्लॉक में को-ऑडिनेटर नियुक्त
शासन ने टैबलेट को सुधारने के लिए चिप्स को जिम्मेदारी दी है। वर्तमान में संकुल स्तर पर भी सुधारने का कार्य किया जा रहा है। कोई बड़ी समस्या होने पर ही जिला मुख्यालय में लाया जा रहा है। सभी ब्लॉक में कोऑडिनेटर नियुक्त किए गए हैं। तकनीकी समस्या का समाधान करते हैं।

सर्वर की दिक्कत है
शिक्षा विभाग के खंड स्त्रोत समन्वयक, योगेश्वर लाल साहू ने बताया सर्वर की समस्या अभी ज्यादा आ रही है। बारिश का भी समय है। संकुल स्तर पर भी टैबलेट बनाए जा रहे हैं। ज्यादा परेशानी होने पर जिला मुख्यालय लाया जाता है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned