मतदान प्रतिशत को बढ़ावा देने स्टूडेंट्स को किया जागरूक, वोट करने की दिलाई शपथ

मतदान प्रतिशत को बढ़ावा देने स्टूडेंट्स को किया जागरूक, वोट करने की दिलाई शपथ

Deepak Sahu | Publish: Sep, 06 2018 06:02:17 PM (IST) Mahasamund, Chhattisgarh, India

नए मतदाताओं को किस प्रकार से प्रेरित कर मतदाता सूची में नाम जोड़ा जा सकता है, के बारे में जानकारी दी गई

महासमुंद. कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी हिमशिखर गुप्ता के निर्देशानुसार स्वीप कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में मतदान के प्रतिशत को बढ़ाने के लिए शांत्री बाई कला, वाणिज्य एवं विज्ञान महाविद्यालय महासमुंद में तृतीय एवं कॉलेज के विद्यार्थियों को मतदाता जागरुकता के संबंध में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।

सहायक नोडल अधिकारी स्वीप प्रमोद कन्नौजे द्वारा मतदान के महत्व पर प्रकाश डालते हुए एक-एक वोट कितना कीमती होता है, इस संबंध में जानकारी विद्यार्थियों को प्रदान की एवं पावर पाइंट प्रस्तुतीकरण द्वारा ऐसे बनें मतदाता, मतदाता सूची क्या है, मतदान आपका अधिकार, टोल फ्री नं. 1950, फार्म 06, 07 ,08, 08 (क) भरने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी, इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन, व्हीव्ही पेट किस प्रकार काम करता है, दिखाया गया तथा निर्वाचन आयोग के पोर्टल से मतदाता सूची संबंधी जानकारी किस प्रकार आनलाइन भरा जा सकता है, जानकारी दी गई। इसी प्रकार नए मतदाताओं को किस प्रकार से प्रेरित कर मतदाता सूची में नाम जोड़ा जा सकता है, के बारे में जानकारी दी गई। इसके अलावा सभी विद्यार्थियों को मतदान करने एवं अपने परिवार के सभी सदस्यों को मतदान करने के लिए प्रेरित करने की शपथ दिलाई गई। इस अवसर पर उपस्थित तृतीय के सदस्य गहना व डाली ने भी विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि वे मतदान अवश्य करें एवं अपने परिवार के सदस्यों के मतदान हो, इसके लिए अपील की। इस अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. सविता चन्द्राकर, स्वीप के महाविद्यालयीन नोडल अधिकारी नम्रता सोनी आदि उपस्थित थे।

खाद व बीज विके्रताओं को दी गई जानकारी
कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंध संस्थान, मैनेज हैदराबाद के माध्यम से प्रोजेक्ट डायरेक्टर आत्मा एवं उप संचालक कृषि द्वारा संचालित खाद, बीज दवाई विक्रेताओं का एक वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम में विक्रेताओं को कृषि से संबंधित जानकारी दी जा रही है, जिससे वे किसानों को सही खाद बीज दवाई देयक एवं किसानों की समस्याओं को अच्छी तरह समझ कर उसका निदान कर सकें। विक्रेताओं को कृषि मौसम, लाभदायक एवं हानिकारक कीटों, बीज अंकुरण परीक्षण एवं उर्वरक गुण नियंत्रण के बारे में जानकारी देने के लिए विगत दिनों इंदिरा गांधी कृषि विश्व विद्यालय में कृषि मौसम विज्ञान केंद्र, बायो कंट्रोल लैब तथा कृषि विभाग द्वारा संचालित बीज एवं उर्वरक परीक्षण केन्द्रों का भ्रमण कराया गया।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned