Save Birds Campaign: पक्षियों को बचाने के लिए युवाओं ने किया इस मुहिम का आगाज, बना रहे घरौंदा

Save Birds Campaign: पक्षियों के पुनर्वास के लिए तुमगांव के युवाओं की एक टीम आगे आई है। विलुप्त हो रही गौरेया व अन्य पक्षियों के लिए बसेरा बनाया जा रहा है। 30 बसेरा बनाकर इस अभियान की शुरुआत की गई है।

By: Ashish Gupta

Published: 29 Aug 2021, 03:23 PM IST

महासमुंद. Save Birds Campaign: पक्षियों के पुनर्वास के लिए तुमगांव के युवाओं की एक टीम आगे आई है। विलुप्त हो रही गौरेया व अन्य पक्षियों के लिए बसेरा बनाया जा रहा है। 30 बसेरा बनाकर इस अभियान की शुरुआत की गई है।

जय मां शीतला आधार युवा शक्ति तुमगांव के सदस्यों ने पक्षियों को बचाने के लिए एक पहल की है। एक कोना पक्षियों के नाम अभियान शुरू किया है। इसके अलावा युवाओं की टीम ने पौधे लगाने और पौधों के संरक्षण करने की भी अपील की है। युवा शक्ति टीम के प्रमुख व पार्षद धर्मेंद्र यादव ने बताया कि भटकते पक्षियों को आशियाना देने की एक कोशिश की जा रही है।

नगर के कुलदेवी शीतला मंदिर परिसर में पंछियों के लिए बसेरा बनाया जा रहा है। प्रकृति में सभी जीव और जंतुओं, पेड़-पौधे और मनुष्य समाहित हैं। पक्षियों के संरक्षण का प्रयास किया जा रहा है। शीतला मंदिर से ही इस अभियान की शुरुआत की गई है। घरों में भी बसेरा लगाएंगे। उन्होंने बताया कि खल्लारी के प्रकृति प्रेमी संजय साहू के मार्गदर्शन में इस अभियान शुरू किया है। युवाओं का भी अच्छा सहयोग मिल रहा है।

इस अभियान के तहत सभी को जोडऩे का प्रयास करेंगे। समिति के संयोजक पप्पु पटेल ने बताया कि पूर्व कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने गर्मी के दिनों में पक्षियों के संरक्षण के लिए अभियान चलाया था, उसी से प्रेरणा मिली थी। इसके बाद से ही पक्षियों के संरक्षण के लिए प्रयास करने की सोच रहे थे। आज कल हम देख रहे हैं कि आसमान में पक्षियों की संख्या कम हो गई है। चिडिय़ों की चहक सुनाई नहीं देती है।

अभियान में इनका सहयोग
जय मां शीतला आधार युवा शक्ति के प्रमुख धर्मेंद्र यादव ने बताया कि इस अभियान में पप्पू पटेल, डोमार पटेल, राकेश धीवर, विष्णु धीवर, रामचंद्र पटेल, हेमंत धीवर, शेष नारायण, भूपेंद्र कुर्रे, वीरेंद्र पुरैना, महेश्वर धीवर, रामस्वरूप धीवर आदि सदस्य शामिल हैं।

लोगों को जोड़ेंगे
धर्मेंद्र यादव व पप्पू पटेल ने बताया कि अभियान को बड़ा रूप दिया जाएगा। इसके लिए सभी शहरवासियों को जोड़ा जाएगा और घर के आस-पास के पेड़ों में इस तरह बसेरा बनाने के लिए कोशिश की जाएगी। खल्लारी में भी इस तरह का प्रयास किया जा रहा है।

Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned